Sunday, 28 April 2013

अपनी हालत पे हूँ मैं खुद हैरान


दिल बयाबां है आँख है वीरान 
अपनी हालत पे हूँ मैं खुद हैरान

एक सन्नाटा है मिरे दिल में 
रहगुज़र जिंदगी की है सुनसान

हर तरफ भीड़ नज़र आती हैं 
फिर भी ढूढे मिले न इक इंसान

कुछ अजीबो ग़रीब हालत है 
जिस्म भी लग रहा है अब बेजान

दिल में रक्खे भी क्या किसी से गिला 
चंद घड़ियों के रह गए मेहमान 

दिल ये मासूम कब समझ पाया 
मेरे अपने जतायेगे एहसान 

हर कोई दोस्त हो नहीं सकता
ए सिया क्यूँ है इतनी तू नादान 

Dil bayabaa'N hai ....aaNkh hai veeran,
Apni haalat pe huN maiN khud hairaan

Ek sannata hai mire dil meiN
Rehguzar zindagi ki hai sunsaan

Har taraf bheed nazar aati hai
phir bhi dhundhe mile na ek insaan

Kuch ajeeb o gareeb haalat hai 
zism bhi lag raha hai ab bejaan 

dil mein rakkhe bhi kya kisi se gila 
chand ghadhiyoN ke rah gaye mehmaan 

dil ye masoom kab samjh paya 
mere apne jatayege ehsaan 

har koyi dost ho nahi sakta 
aye siya kyun hai itni tu naadan 

के जैसे एहसाँ जता रहा था

वो ऐसे रिश्ते निभा रहा था 
के जैसे एहसाँ जता रहा था

ये उसका चेहरा बता रहा था 
वो कुछ तो मुझसे छिपा रहा था

है दिल में उसके कोई तो उलझन 
जो रात भर जागता रहा था

मैं उससे जो कुछ भी कह रही थी 
हवा में उसको उड़ा रहा था

नहीं थी तूफ़ान की कोई परवाह 
ख़ुदा मेरा नाख़ुदा रहा था 

हमें वो देता था दरस ए ईमां 
जो कुफ्र में मुब्लिता रहा था 

समझ रहा था ख़ुदा वो ख़ुद को 
करम सिया जो गिना रहा था

wo aise rishta nibha raha tha 
ke jaise ehsaaN jata raha tha

ye uska chehra bata raha tha 
wo kuch to mujhse chhipa raha tha

hain koyi uljhan to uske dil mein 
jo raat bhar jagta raha tha

main usse jo kuch bhi kah rahi thi
hawa mein usko uda raha tha 

Nahee'n thi toofaa'n ki koi parwaa
Khuda mera nakhuda raha tha.

Hame'n wo deta tha dars e eemaa'n
Jo kufr mei'n mubtila raha tha.

samjh raha tha khuda wo khud ko 
karam wo apne gina raha tha,

siya

Sunday, 21 April 2013

दुश्मन को भी हम दोस्त बनाना नहीं भूले


इखलाक़ की पूंजी को लुटाना नहीं भूले 
दुश्मन को भी हम दोस्त बनाना नहीं भूले 

जिसमें था बहुत जोश वो गाना नहीं भूले
जिन्दा है सो जीवन का तराना नहीं भूले 

मेयार से गिरते हुए देखा न गया तो 
हम दोस्ती का फ़र्ज़ निभाना नहीं भूले

दुनिया के तेरे बिन न कोई काम रुकेगा 
हर बार मुझे वो ये जताना नहीं भूले 

 रास आया उन्हें कब ये के हँस लूँ मैं दो घड़ी 
देखा जो मुझे खुश तो रुलाना नहीं भूले

दुनिया के तेरे बिन न कोई काम रुकेगा 
हर बार मुझे वो ये जताना नहीं भूले 

दिल ही नहीं मजरूह मेरी रूह भी घायल 
वो ज़ख्म मेरे दिल पे लगाना नहीं भूले

वो शीश महल में भी न रह पाए ख़ुशी से 
हम अपना सिया टूटा  ठिकाना नहीं भूले

ikhlaaq ki punji ko lutana nahi bhule
dushman ko bhi hum dost bana'na nahi bhule

jis mein tha bahut josh wo gana nahi bhule 
zinda hai so jeevan ka tarana nahi bhule

meyaar se girte hue dekha na gaya to
ham dosti ka farz nibhana nahin bhoole

raas aaya unhe kab ye ke hans lun main ik do pal
dekha jo mujhe khush to rulana nahi bhule

duniya ka tere bin na koyi kaam rukega 
har baar mujhe wo ye jatana nahi bhule

dil hi nahi majrooh meri rooh bhi ghayal
wo zakhm mere dil pe lagana nahi bhule 

wo shesh mahal mein bhi na rah paaye khushi se 
hum tuta hua apna thikana nahi bhule

हम आज भी रिश्तों को निभाना नहीं भूले


हम तो अभी बचपन का ज़माना नहीं भूले 
शाखों से परिंदों को उड़ाना नहीं भूले 

हमने तो यहीं आपसे सीखा है सदा माँ 
हम आज भी रिश्तों को निभाना नहीं भूले

एहसास की लज्ज़त है अभी जिसमें नुमायां
हम माँ का वहीं शाल पुराना नहीं भूले

माँ का मुझे वो डाँटना और साथ में रोना
सीने से मुझे फिर वो लगाना नहीं भूले

माँ बाप की इज्ज़त है सदा धर्म तुम्हारा 
बच्चो को यहीं बात सिखाना नहीं भूले 

बचपन की हमें याद दिलाती है ये बारिश
बारिश की फुहारों में नहाना नहीं भूले .

ममता से भरा होता था इक इक वो निवाला 
माँ के बने हाथो का वो खाना नहीं भूले 

रस्ते में भले आये सिया कितनी मुसीबत 
उम्मीद के फूलों को खिलाना नहीं भूले



 hum to abhi bachpan ka zamana nahi bhule
shakho se parindo'n ko udana nahi bhule

 humne to yaahen aapse seekha hai sada ma 
hum aaj bhi rishto'n ko nibhana nahi bhule


ehsaas ki lazzat hain abhi jismein numaya'n 
hum ma ka waheen shal puarana nahi bhule 

Maan ka wo mujhe daantna phir saath men rona...
seene se mujhe phir wo lagaana nahin bhoole..

ma _baap ki izzat hai sada dharm tumahara 
bachcho ko  yaheen baat sikhana nahi bhule


bachpan ki hameN yaad dilaati hai.n ye barish
bairish ki fuharo'n mein nahana nahi bhule

mamta se bhara hota tha ik ik wo niwala
ma ke bane hatho ka wo khana nahi bhule

raste mein bhale aaye siya kitni museebat 
ummeed ke fholoN ko khilana nahi bhule

Sunday, 7 April 2013

साँस लेना भी अब मेरा दुश्वार है


जिसको देखो ख़ुशी का तलबगार है 
सोचिये तो कहाँ कोई ग़मख्वार है

चारसू रह गयी है घुटन ही घुटन 
साँस लेना भी अब मेरा दुश्वार है 

आप सुनते कहा हो जो मैं कुछ कहू 
आप से सर खपाना ही बेकार है 

आप की हर ख़ुशी के लिए हमसफ़र 
जाँ लुटाने की ख़ातिर भी तैयार है 

आज तक एकभी झूठ बोला  नहीं 
मेरे जैसा कोई भी गुनाहगार है 

रिश्ते नाते कभी काम आये नहीं 
मेरे ग़म का कोई भी खरीदार है 

हाथ फैलाना तो उसने सीखा नहीं 
वो गरीबी में भी इतना खुद्दार है'

मौत का ज़िक्र भी छोड़ दू पर सिया 
ज़िंदगी ही कहाँ अब तरफदार है

Jisko dekho khushi ka talabgaar hai.
Sochiye to kahaa'n koi Gamkhwaar hai,


char_soo' rah gayi hai ghutan hi ghutan 
sans lena bhi ab mera dushwar hai 

aap sunte kahaan ho jo main kuch kahoon,
aapse sar khapana hi bekaar hai


aap ki har khushi ke liye humsafar 
jaa'n lutaane ki kahtir bhi taiyaar hai 

aaj tak ek bhi jhooth bola nahi 
mere jaisa koyi bhi gunahgaar hai

rishte nate kabhi kaam aaye nahi 
mere gham ka koyi bhi khareedar hai

hath failana to usne seekha nahi 
wo gareebi mein bhi itna khud’daar hai,

maut ka zikr bhi chod doo'n par "Siya"
Zindgi he kaha'n ab tarafdaar hai,

Friday, 5 April 2013

दुनिया की जुस्तजू भी है सजदे में सर भी है

माँ बाप की दुआओं में इतना असर भी है 
मैं जी रही हूँ शान से शानों प् सर भी है

ये भी है खुसूसियत है मिरे दौर की जनाब 
दुनिया की जुस्तजू भी है सजदे में सर भी है

उस बेवफा ने छोड़ दिया रास्ते में साथ 
सो दास्तान ए इश्क़ मिरी मुख़्तसर भी है

उड़ती हुई निगाह वो डाले तो खिल उठू 
काग़ज़ तो आंसुवों से मिरे दिल का तर भी है

 उक़बा की फिक्र है तो इबादत किया करो 
दुनिया है जिसका नाम फ़रेब ए नज़र भी है 

सदियों से उसके हिज्र में रोती हूँ मैं"सिया" 
अब लोग पूछते हैं की अपनी ख़बर भी है 

ye bhi khusoosiyat hai mire daur ki janab 
duniya ki justju bhi hai sajde mein sar bhi hai

us bewafa ne chhod diya raaste mein saath 
so dastaan e ishq miri mukhtsar bhi hai

udti hui nigah wo daale to khil utthu 
kaghaz to aansuvo'n se mire dil ka tarr bhi hai

uqba ki fiqr hai to ibadat kiya karo 
duniya hai jiska naam fareb e nazar bhi hai

sadiyo'n se uske hizr mein roti hoon main siya 
ab log puchte hain ki apni khbar bhi hai?

Tuesday, 2 April 2013

दरमयां फ़ासला नहीं होता


दिल मिला तो जुदा नहीं होता
दरमयां फ़ासला नहीं होता

सिर्फ ख़ामोश तमाशाई है 
अब तो मुझसे गिला नहीं होता

मुझसे कहते है क्यूँ परेशां हो 
तुमसे वादा वफ़ा नहीं होता 

ज़िंदगी राह चुन तो लूँ अपनी 
हाँ मगर हौसला नहीं होता

होंके नाराज़ भी ये कहते हो
मैं किसी से खफ़ा  नहीं होता

एक दिन भी सुकून से गुज़रे 
कब भला हादसा नहीं होता 

खूं के आँसू न आज रोती मैं 
ग़र मुझे वो नहीं मिला होता

अश्क़ पलकों पे झिलमिलाते हैं 
दर्द दिल से जुदा नहीं होता

नेकिया करके डाल दरियाँ में 
नेकियों का सिला नहीं होता
सारी दुनिया पे तंज करते हो 
सामने आईना नहीं होता

युहीं औरों से जो उलझते हैं 
उनका कुछ भी भला नहीं होता

ग़ैर था इसलिए वो छोड़ गया 
जो है अपना जुदा नहीं होता

मुझको रिश्तों पे ऐतबार ही था 
जो ये धोखा मिला नहीं होता
कैसे खुशियों की जानते क़ीमत 
दुःख से जो सामना नहीं होता 
dil mila to juda nahi hota 
dramyan faslla nahi hota

sirf Khamosh tamashaai hai 
ab to mujhse gila nahi hota ...

mujhse kahte hai kyu pareshan ho 
tumse  wada wafa nahi hota 

Zindagi raah chun to lu apni 
haan magar housla nahi hota.
hoke naraz bhi ye kahte ho 
 main kisi se khafa nahi hota ..

 Ek din bhi Sukoo'n se guzra kab 
Kab bhala hadsa nahi hota

khoo'n ke aansu na aaj roti main
gar mujhe tu nahi mila hota  

ashq palkon pe timtimate hain
 dard dil se juda nahi hota

Nekiya'n karke daal darya me
nekiyon ka sila nahi hota
sari duniya pe tanz karte ho 
samne aaina nahi hota ?

 yuheen auron se jo ulajhtey hain
unka kuch bhi bhala nahi hota 

ghair tha isliye wo chhod gaya
jo hai apna juda nahi hota

 Mujhko rishto pe etbaar hi tha
jo ye dhoka mila nahi hota

kaise khushiyon ki jante qeemat 
dukh se jo samna nahi hota

Monday, 1 April 2013

ज़िंदगी इसमें तेरे राज़ छुपा रक्खे हैं .

अब भी दिल में कई अरमान सजा रक्खे हैं 
मुझको ये बात ज़माने से जुदा रक्खे हैं 

मेरे एहसास की चादर में हैं पैबंद बहुत
ज़िंदगी इसमें तेरे राज़ छुपा रक्खे हैं ......

मेरी आहों की जबां कोई समझता कैसे
अपने ग़म अपने ही सीने में छुपा रक्खे हैं

क्या मिरे दिल के तडपने का है एहसास उन्हें
खुश रहे कैसे जो अपनों को ख़फ़ा रक्खे हैं

चाँद तारे तेरे सभी दामन में सभी भर दूंगा
तुमने झूठे ही मुझे ख़्वाब दिखा रक्खे हैं

तेरी चाहत पे है कुर्बान मेरी जाँ हमदम
दिल में है प्यार तो क्यूँ झूठी अना रक्खे हैं

उनपे  इल्ज़ाम ये दुनिया न लगाने पाए
हमने सीने में कई दर्द छुपा रक्खे है ....

ab bhi dil mein kai armaan saja rakkhe hain
mujhko ye baat zamane se juda rakkhe hain

mere ehsaas ki chadar mein hain paiband bahut
zindgi ismein tere raaz chhupa rakkhe hain

meri aaho'n ki zabaa'n koyi samjhta kaise
apne gham apne hi seene mein chhupa rakkhe hain

kya mire dil ke tadpane ka hai ehsaas unhe
khush rahe kaise jo apno ko khafa rakhte hain

chand tare tere daaman mein sabhi bhar dunga
tumne jhoothe hi mujhe khwab dikha rakkhe hain

teri chahat pe hai qurbaanmiri jaan hardam
dil mein hai pyaar to kyun jhoothi ana rakkhe hain

unpe ilzaaam ye duniya na lagaane paye
hamne seene mein kai dard chupa rakkhe hain

siya ...
अश्क़ आँखों से जब गिरा होगा 
बनके मोती बिखर गया होगा 

आज फिर घर में रतजगा होगा 
फ़िर अँधेरो से जूझना होगा

सामना उनसे जब हुआ होगा 
गुल तबस्सुम का फिर खिला होगा

दर्द की इक लकीर सी उट्ठी 
वो मुझे सोचता रहा होगा

आज फिर उसकी याद आई है 
दर्द कुछ हद् से भी सिवा होगा 

लम्हा लम्हा जो आज़माता है
वो मुझे खूब जानता होगा

इतना टूटा है जो मोहब्बत में
दर्द उसने बहुत सहा होगा

वक़्त की धूप ने भी चेहरे पर
ए सिया कुछ न कुछ लिखा होगा

ashq aankho se jab gira hoga
banke moti bikhar gaya hoga

aaj fir ghar mein ratjaga hoga
fir andheron se jujhna hoga

samna unse jab hua hoga
gul tabssum ka fir khila hoga

dard ki ik lakeer si utthi
wo mujhe sochta raha hoga

aaj fir uski yaad aayi hai 
dard kuch had se bhi siwa hoga 

lamha lamha jo aazmata hai
wo mujhe khoob janta hoga

itna tuta hai jo mohbbat mein
dard usne bahut saha hoga

waqt ki dhoop ne bhi chehre pe
aye siya kuch na kuch likha hoga

siya