Thursday, 17 July 2014

नज़्म - दिल- ए- बे -आसरा



नींद आँखों का साथ छोड़ गयी 
पलकें बोझल हैं मुज़्तरिब दिल है 
कौन है,,किसका इंतज़ार मुझे 
रात दिन बेक़रार रखता है ?
भीगी आँखों के नर्म गोशों से 
अश्क बन कर टपकता रहता है 
तकती रहती है जिसकी राह निग़ाह 


इक नज़र काश उसको मैं देखूँ 
छुप गया जाने रूठ कर वो कहाँ 
जैसे  छुप जाए चाँद बादल ओट 
फिर भी महसूस हो रहा है यही
वो मेरे आस पास हो जैसे 
बंद आँखे करूँ उसे छू लूँ 
वो बने चोर और मैं छुप जाऊँ 
कुछ न कुछ तो है रस्म ए उल्फ़त में 
दिल को जो बेक़रार करता है 
वरना एक बार जब बिछड़ जायें 
कौन फिर किसको याद करता है 


या इलाही ये कैसा रिश्ता है 
रग़ ए जाँ से क़रीब जिस्म से दूर 
दिल- ए- बे -आसरा है और मैं हूँ 
कौन वरना हुआ है यूं मजबूर 
ख़्वाब है या सराब है क्या है 
मैंने आँखों में जो बसाया है 
काश इक दिन ये भेद खुल जाए 
की वो अपना है या पराया है 
क्या वो सुन पायेगा मेरी आवाज़ ? 



Neend aankho'n ka saath chhod gayi
Palke'n bojhal hai'n muztarib dil hai
Kaun hai...... .....kis ka intazaar mujhe.... Raat din beqaraar rakhta hai ? Bheegi aankho'n ke narm gosho'n se/
Ashk ban kar tapakta rahta hai/ 
Takti rahti hai jiski raah nigaah

ik nazar kaash usko main dekhoo"n.
Chhup gaya jaane rooth kar wo kahaa'n
jaise chhup jaaye chaand baadal ot 
phir bhi mahsoos ho raha hai yahi/
wo mere aas paas ho jaise
Band aankhe'n karoo'n use chhoo loo'n.
Wo bane chor aur mai'n chhup jaau'n
Kuchh na kuchh to hai rasm-e-ulfate me'n
Dil ko jo beqaraar rakhta hai
Warna ek baar jab bichhad jaaye'n
Kaun phir kisko yaad karta hai.

Ya illahi ye kaisa rishta hai 
Rag-e-jaa'n se qareeb jism se door
Dil-e-be-aasra hai aur mai'n hoo'n
Kaun warna hua hai yoo'n majboor 
Khwaab hai ya saraab hai kya hai
Mai'n ne aankho'n me'n jo basaaya hai
Kaash ek din ye bhed khul jaaye
Ki wo apna hai ya paraaya hai Kya wo sun paayega meri awaaz?






Saturday, 12 July 2014

कभी ये खुद से कभी आईने से बात करूँ

बिसात पर उसे शह दूँ की अपनी मात करूँ 
कभी ये खुद से कभी आईने से बात करूँ 

तेरा ख़्याल तेरी आरज़ू हो घर मेरा 
तुझी में दिन को गुज़ारूं तुझी में रात करूँ 

वो सामने हो तो खुलती नहीं ज़बान मेरी 
निग़ाह दे जो इजाज़त तो उससे बात करूँ 

तेरे ही नाम का आँचल रहे सदा सर पर 
तेरे ही ज़िक्र से आँगन को क़ायनात करूँ 

सिया दुआ है ख़ुदा से वो वक़्त आ जाये 
मैं उसके नाम  ही अपनी ये कुल  हयात करूँ 

Friday, 11 July 2014

ज़िन्दगी जैसी ज़िन्दगी भी नहीं.

जुस्तजू के लिए ख़ुशी भी नहीं,
ज़िन्दगी जैसी ज़िन्दगी भी नहीं.

ख़्वाहिशें हैं के बढ़ती जाती हैं 
और कहने को कुछ कमी भी नहीं 

धुधला धुंधला सा है हर इक मंज़र
इन  निग़ाहों में रौशनी भी नहीं 

मैं तेरा नाम लेके मर जाऊं,
इतनी कमबख्त बेबसी भी नहीं,

धूप आई 'सिया' न मुद्दत से
और किस्मत में चांदनी भी नहीं.
..

Wednesday, 9 July 2014

मैं आँसू ऐसे समेटूँ की झील बन जाए

तिरे लिए मिरे ग़म की दलील बन जाए 
मैं आँसू ऐसे समेटूँ की झील बन जाए

ये तेरी तल्ख़ कलामी के तेज़तर नश्तर
मेरी जगह जो कोई हो क़तील बन जाए..... {क़तील यानि जिसका क़त्ल हो }

मैं उसके पास रहूँ वह न देख पाये मुझे
खुद करें कोई ऐसी सबील बन जाए.।{ सबील यानि तरीक़ा ]

क़दम जिधर को उठा लूँ वो रास्ता हो जाए
जहाँ पे ठहरूँ वही संग ए मील हो जाए

जो तेरी राह चले ए ख़ुदा वो नेक बने 
जो तेरा रास्ता छोड़े ज़लील  बन जाए 

सिया मिले कोई मुर्शिद तो ऐसा मुर्शिद हो 
हुज़ूर ए रब जो हमारा वकील बन जाए 


Tire liye mire gham ki daleel ban jaaye
Mai'n aansu aise sametu'n ki jheel ban jaaye
Ye teri talkh kalaami ke teztar nashtar 
meri jagah jo koi ho qateel ban jaaye.....{.qateel Jis ka qatl ho}
Mai'n uske paas rahu'n woh na dekh paaye mujhe
: Khuda kare koi aisi sabeel ban jaaye   ( sabeel = tareeqa)

Qadam jidhar ko utha le'n wo raasta ho jaaye
: Jahaa'n pe thahre'n wahi sang-e-meel ban jaaye
Jo teri raah chale aye Khuda wo nek bane 
Jo tera Raasta chhode zaleel ban jaaye
Siya mile koi murshid to aisa murshid ho 
Huzoor-e-Rab jo hamaara wakeel ban jaaye

Sunday, 6 July 2014

इक शजर ,इक साया ,न उम्मीदी ,आँखे अश्कबार

भीगती शब.चाँद सन्नाटा  सितारे सब्ज़ाज़ार 
इक शजर ,इक साया ,न उम्मीदी ,आँखे अश्कबार 

खुद से लड़ती तेज़ तर मौजे ,नदी बिफरी हुई
इक शिकस्ता नाँव जिसका बादबाँ है तार तार   


सोच में डूबी हुई,खोयी हुई ,हर शय उदास 
ऐसे आलम में रहे किस दिल को खुद पे इख्तियार 

बे अमाँ  बेसब्र नग्में, बेसदा बे हर्फ़ लय 
एक कोने में टिका ,नाराज़ खुद से इक सितार .


एक प्याली  चाय सुब्ह ए हिज्र ख़ुद से गुफ़्तगू ............bichoh ki subha 
ज़ेहन में तूफ़ान चलती आँधियाँ गर्द ओ गुबार

कौन दे बेताब जज़्बों को नवद ए सुब्ह ए नौ 
आस का बोसीदा दामन भी हुआ अब तार तार 

दर्द का बादल है छाया वादी ए दिल पर मेरे 
मेरी आँखों से टपकते अश्क हैं या आबशार 

जी में आता है ख़मोशी ओढ़ कर  सो जाईयें 
बोलना ख़ुद का भी गुज़रे है सिया को नागवार 

bheegti shab,chand sannata,sitaare sabzazar
ik shajar,ik saya n ummedi ,aankhe'n ashkbaar 


khud se ladti tez tar mauje,nadi bifri hui 
ik shiksta naav' jiska badbaa'n hai taar taar { baadbaan naav mein baandhne wala ek kapda }

soch mein doobi hui,khoyi hui,har shay udaas 
aise aalam mein rahe kis dil ko khud pe ikhtiyaar 

be ama'n besabr nagme'n , besada be harf lay ..
ek kone mein tika, naraaz khud se ik sitaar .... .{beama'n ashant man .be sada bina aawaz ke nishabd }.

ek pyaali chai subh e hijr khud se guftgoo .....{subh e hijr..bichoh ki subha}
zehan mein tufaan chalti aandhiyaa'n gard o gubaar 

kaun de betaab jazbo'n ko nawad e subh e nau 
aas ka boseeda damaan bhi hua hai taar taar 

dard ka badal hai chaya wadi e dil par mere
meri aankho se tapakte ashk hain ya aabshaar {aabshaar yani jharna }

jee mein aata hai khamoshi odh kar so jaiye'n 
bolna khud ka bhi gujre hai siya ko nagwaar 




Monday, 30 June 2014

नज़्म ....बेज़ारी


सूना सूना जहान लगता है 
वक़्त भी बदगुमान लगता है 
कोई लगता न जाना पहचाना 
सारा माहौल मुझ से बेगाना 
अपना साया भी हो जुदा  जैसे 
रूठा रूठा सा हो ख़ुदा जैसे 
जैसे दम घोटती हो तन्हाई 
हो गयी क्या वो बज़्म आराई 
ज्यों बिखर जाये दिल के सब पारे 
ज़ख्म खुल जायें एकदम सारे 
दिल पे अब इख़तियार है भी कहाँ 
खुद पे अब ऐतबार हैं भी कहाँ 
जैसे दामन किसी का छूट गया 
सब्र का बांध जैसे टूट गया 


Soona soona jahaan lagta hai. Waqt bhi badgumaan lagta hai. Koi lagta na jana pahchana Saara mahaul mujh se begaana. Apna saaya bhi ho juda jaise. Rootha rootha sa ho khuda jaise. Jaise dam ghont'ti ho tanhaai. Ho gai kya wo bazm aaraai. Jyo'n bikhar jaaye'n dil ke sab paare. Zakhm khul jaaye 'n ekdam saare. Dil pe ab ikhtiyaar hai bhi kahaa'n. Khud pe ab aitabaar hai bhi kahaa'n. Jaise daaman kisi ka chhoot gaya. Sabr ka baandh jaise toot gaya

नज़्म वोह औरत ...........................................................

घर की इज़्ज़त का भरम रखती रही वोह औरत 
ज़िंदगी जीती रही अपनी संभाले हुरमत 
अपने बच्चों के लिए जीती रही थी अब तक 
ज़हर हालात का ख़ुद पीती रही थी अब तक 
उम्र भर ज़ुल्म ओ सितम हँसते हुए सहती रही 
अपने ही आप से, गुज़री जो, उसे कहती रही 
सिर्फ इक छत ही मिली प्यार का साया न मिला 
मुतमईन ज़ीस्त का गुंचा न कभी दिल का खिला 
बाल बच्चे भी जवाँ हो के हुए बेगाने 
माँ पे क्या बीत गयी इस से रहे अंजाने 

लेकिन ये तौक़ ए ग़ुलामी उसे अब तोडना है 
वक़्त के धारे को अपनी ही तरफ मोड़ना है 
अब जियेगी वो यहाँ ज़ात की ख़ातिर अपनी 
एक दिन ख़ुद से मुलाक़ात की ख़ातिर अपनी 
अपनी पहचान पे पैकर पे ये दिल वारेगी 
हारती आयी है अब और नहीं हारेगी 

Ghar ki izzat ka bharam rakhti rahi woh aurat.
Zindagi jeeti rahi apni sanbhaale hurmat.
Apne bachcho'n ke liye jeeti rahi thi ab tak.
Zahr halaat ka khud peeti rahi thi ab tak.
Umr bhar zulm-o-sitam hanste hue sahti rahi.
Apne hi aap se , guzri jo , use kahti rahi.
Sirf ek chhat hi mili pyaar ka saaya na mila.
Mutmain zeest ka ghuncha na kabhi dil me'n khila.
Baal bachche bhi jawa'n ho ke hue begaane.
Maa'n pe kya beet gayi is se rahe anjaane.

Lekin ye tauq-e-ghulaami use ab todna hai.
Waqt ke dhaare ko apni hi taraf modna hai.
Ab jiyegi wo yahaa'n zaat ki khaatir apni.
Ek din khud se mulaqaat ki khaatir apni.
Apni pahchaan pe paikar pe ye dil waaregi.
Haarti aayi hai ab aur nahi'n haaregi.