Sunday, 28 April 2013

अपनी हालत पे हूँ मैं खुद हैरान


दिल बयाबां है आँख है वीरान 
अपनी हालत पे हूँ मैं खुद हैरान

एक सन्नाटा है मिरे दिल में 
रहगुज़र जिंदगी की है सुनसान

हर तरफ भीड़ नज़र आती हैं 
फिर भी ढूढे मिले न इक इंसान

कुछ अजीबो ग़रीब हालत है 
जिस्म भी लग रहा है अब बेजान

दिल में रक्खे भी क्या किसी से गिला 
चंद घड़ियों के रह गए मेहमान 

दिल ये मासूम कब समझ पाया 
मेरे अपने जतायेगे एहसान 

हर कोई दोस्त हो नहीं सकता
ए सिया क्यूँ है इतनी तू नादान 

Dil bayabaa'N hai ....aaNkh hai veeran,
Apni haalat pe huN maiN khud hairaan

Ek sannata hai mire dil meiN
Rehguzar zindagi ki hai sunsaan

Har taraf bheed nazar aati hai
phir bhi dhundhe mile na ek insaan

Kuch ajeeb o gareeb haalat hai 
zism bhi lag raha hai ab bejaan 

dil mein rakkhe bhi kya kisi se gila 
chand ghadhiyoN ke rah gaye mehmaan 

dil ye masoom kab samjh paya 
mere apne jatayege ehsaan 

har koyi dost ho nahi sakta 
aye siya kyun hai itni tu naadan 

1 comment:

  1. दिल ये मासूम कब समझ पाया
    मेरे अपने जतायेगे एहसान

    aaj ke haalaat ki nangi tasveer.....

    ReplyDelete