Sunday, 28 April 2013

के जैसे एहसाँ जता रहा था

वो ऐसे रिश्ते निभा रहा था 
के जैसे एहसाँ जता रहा था

ये उसका चेहरा बता रहा था 
वो कुछ तो मुझसे छिपा रहा था

है दिल में उसके कोई तो उलझन 
जो रात भर जागता रहा था

मैं उससे जो कुछ भी कह रही थी 
हवा में उसको उड़ा रहा था

नहीं थी तूफ़ान की कोई परवाह 
ख़ुदा मेरा नाख़ुदा रहा था 

हमें वो देता था दरस ए ईमां 
जो कुफ्र में मुब्लिता रहा था 

समझ रहा था ख़ुदा वो ख़ुद को 
करम सिया जो गिना रहा था

wo aise rishta nibha raha tha 
ke jaise ehsaaN jata raha tha

ye uska chehra bata raha tha 
wo kuch to mujhse chhipa raha tha

hain koyi uljhan to uske dil mein 
jo raat bhar jagta raha tha

main usse jo kuch bhi kah rahi thi
hawa mein usko uda raha tha 

Nahee'n thi toofaa'n ki koi parwaa
Khuda mera nakhuda raha tha.

Hame'n wo deta tha dars e eemaa'n
Jo kufr mei'n mubtila raha tha.

samjh raha tha khuda wo khud ko 
karam wo apne gina raha tha,

siya

No comments:

Post a Comment