Sunday, 21 April 2013

दुश्मन को भी हम दोस्त बनाना नहीं भूले


इखलाक़ की पूंजी को लुटाना नहीं भूले 
दुश्मन को भी हम दोस्त बनाना नहीं भूले 

जिसमें था बहुत जोश वो गाना नहीं भूले
जिन्दा है सो जीवन का तराना नहीं भूले 

मेयार से गिरते हुए देखा न गया तो 
हम दोस्ती का फ़र्ज़ निभाना नहीं भूले

दुनिया के तेरे बिन न कोई काम रुकेगा 
हर बार मुझे वो ये जताना नहीं भूले 

 रास आया उन्हें कब ये के हँस लूँ मैं दो घड़ी 
देखा जो मुझे खुश तो रुलाना नहीं भूले

दुनिया के तेरे बिन न कोई काम रुकेगा 
हर बार मुझे वो ये जताना नहीं भूले 

दिल ही नहीं मजरूह मेरी रूह भी घायल 
वो ज़ख्म मेरे दिल पे लगाना नहीं भूले

वो शीश महल में भी न रह पाए ख़ुशी से 
हम अपना सिया टूटा  ठिकाना नहीं भूले

ikhlaaq ki punji ko lutana nahi bhule
dushman ko bhi hum dost bana'na nahi bhule

jis mein tha bahut josh wo gana nahi bhule 
zinda hai so jeevan ka tarana nahi bhule

meyaar se girte hue dekha na gaya to
ham dosti ka farz nibhana nahin bhoole

raas aaya unhe kab ye ke hans lun main ik do pal
dekha jo mujhe khush to rulana nahi bhule

duniya ka tere bin na koyi kaam rukega 
har baar mujhe wo ye jatana nahi bhule

dil hi nahi majrooh meri rooh bhi ghayal
wo zakhm mere dil pe lagana nahi bhule 

wo shesh mahal mein bhi na rah paaye khushi se 
hum tuta hua apna thikana nahi bhule

No comments:

Post a Comment