Tuesday, 2 April 2013

दरमयां फ़ासला नहीं होता


दिल मिला तो जुदा नहीं होता
दरमयां फ़ासला नहीं होता

सिर्फ ख़ामोश तमाशाई है 
अब तो मुझसे गिला नहीं होता

मुझसे कहते है क्यूँ परेशां हो 
तुमसे वादा वफ़ा नहीं होता 

ज़िंदगी राह चुन तो लूँ अपनी 
हाँ मगर हौसला नहीं होता

होंके नाराज़ भी ये कहते हो
मैं किसी से खफ़ा  नहीं होता

एक दिन भी सुकून से गुज़रे 
कब भला हादसा नहीं होता 

खूं के आँसू न आज रोती मैं 
ग़र मुझे वो नहीं मिला होता

अश्क़ पलकों पे झिलमिलाते हैं 
दर्द दिल से जुदा नहीं होता

नेकिया करके डाल दरियाँ में 
नेकियों का सिला नहीं होता
सारी दुनिया पे तंज करते हो 
सामने आईना नहीं होता

युहीं औरों से जो उलझते हैं 
उनका कुछ भी भला नहीं होता

ग़ैर था इसलिए वो छोड़ गया 
जो है अपना जुदा नहीं होता

मुझको रिश्तों पे ऐतबार ही था 
जो ये धोखा मिला नहीं होता
कैसे खुशियों की जानते क़ीमत 
दुःख से जो सामना नहीं होता 
dil mila to juda nahi hota 
dramyan faslla nahi hota

sirf Khamosh tamashaai hai 
ab to mujhse gila nahi hota ...

mujhse kahte hai kyu pareshan ho 
tumse  wada wafa nahi hota 

Zindagi raah chun to lu apni 
haan magar housla nahi hota.
hoke naraz bhi ye kahte ho 
 main kisi se khafa nahi hota ..

 Ek din bhi Sukoo'n se guzra kab 
Kab bhala hadsa nahi hota

khoo'n ke aansu na aaj roti main
gar mujhe tu nahi mila hota  

ashq palkon pe timtimate hain
 dard dil se juda nahi hota

Nekiya'n karke daal darya me
nekiyon ka sila nahi hota
sari duniya pe tanz karte ho 
samne aaina nahi hota ?

 yuheen auron se jo ulajhtey hain
unka kuch bhi bhala nahi hota 

ghair tha isliye wo chhod gaya
jo hai apna juda nahi hota

 Mujhko rishto pe etbaar hi tha
jo ye dhoka mila nahi hota

kaise khushiyon ki jante qeemat 
dukh se jo samna nahi hota

No comments:

Post a Comment