Monday, 1 April 2013

ज़िंदगी इसमें तेरे राज़ छुपा रक्खे हैं .

अब भी दिल में कई अरमान सजा रक्खे हैं 
मुझको ये बात ज़माने से जुदा रक्खे हैं 

मेरे एहसास की चादर में हैं पैबंद बहुत
ज़िंदगी इसमें तेरे राज़ छुपा रक्खे हैं ......

मेरी आहों की जबां कोई समझता कैसे
अपने ग़म अपने ही सीने में छुपा रक्खे हैं

क्या मिरे दिल के तडपने का है एहसास उन्हें
खुश रहे कैसे जो अपनों को ख़फ़ा रक्खे हैं

चाँद तारे तेरे सभी दामन में सभी भर दूंगा
तुमने झूठे ही मुझे ख़्वाब दिखा रक्खे हैं

तेरी चाहत पे है कुर्बान मेरी जाँ हमदम
दिल में है प्यार तो क्यूँ झूठी अना रक्खे हैं

उनपे  इल्ज़ाम ये दुनिया न लगाने पाए
हमने सीने में कई दर्द छुपा रक्खे है ....

ab bhi dil mein kai armaan saja rakkhe hain
mujhko ye baat zamane se juda rakkhe hain

mere ehsaas ki chadar mein hain paiband bahut
zindgi ismein tere raaz chhupa rakkhe hain

meri aaho'n ki zabaa'n koyi samjhta kaise
apne gham apne hi seene mein chhupa rakkhe hain

kya mire dil ke tadpane ka hai ehsaas unhe
khush rahe kaise jo apno ko khafa rakhte hain

chand tare tere daaman mein sabhi bhar dunga
tumne jhoothe hi mujhe khwab dikha rakkhe hain

teri chahat pe hai qurbaanmiri jaan hardam
dil mein hai pyaar to kyun jhoothi ana rakkhe hain

unpe ilzaaam ye duniya na lagaane paye
hamne seene mein kai dard chupa rakkhe hain

siya ...

No comments:

Post a Comment