Sunday, 7 April 2013

साँस लेना भी अब मेरा दुश्वार है


जिसको देखो ख़ुशी का तलबगार है 
सोचिये तो कहाँ कोई ग़मख्वार है

चारसू रह गयी है घुटन ही घुटन 
साँस लेना भी अब मेरा दुश्वार है 

आप सुनते कहा हो जो मैं कुछ कहू 
आप से सर खपाना ही बेकार है 

आप की हर ख़ुशी के लिए हमसफ़र 
जाँ लुटाने की ख़ातिर भी तैयार है 

आज तक एकभी झूठ बोला  नहीं 
मेरे जैसा कोई भी गुनाहगार है 

रिश्ते नाते कभी काम आये नहीं 
मेरे ग़म का कोई भी खरीदार है 

हाथ फैलाना तो उसने सीखा नहीं 
वो गरीबी में भी इतना खुद्दार है'

मौत का ज़िक्र भी छोड़ दू पर सिया 
ज़िंदगी ही कहाँ अब तरफदार है

Jisko dekho khushi ka talabgaar hai.
Sochiye to kahaa'n koi Gamkhwaar hai,


char_soo' rah gayi hai ghutan hi ghutan 
sans lena bhi ab mera dushwar hai 

aap sunte kahaan ho jo main kuch kahoon,
aapse sar khapana hi bekaar hai


aap ki har khushi ke liye humsafar 
jaa'n lutaane ki kahtir bhi taiyaar hai 

aaj tak ek bhi jhooth bola nahi 
mere jaisa koyi bhi gunahgaar hai

rishte nate kabhi kaam aaye nahi 
mere gham ka koyi bhi khareedar hai

hath failana to usne seekha nahi 
wo gareebi mein bhi itna khud’daar hai,

maut ka zikr bhi chod doo'n par "Siya"
Zindgi he kaha'n ab tarafdaar hai,

No comments:

Post a Comment