Friday, 20 July 2012

ये ज़िन्दगी भी है जैसे उधार का काग़ज़

बिखर गया तो कोई क्यूँ समेटता काग़ज़ 
ये ज़िन्दगी भी है जैसे उधार का काग़ज़

लिखे तो कोई मुझे दर्द आशना काग़ज़ 
ख़ुदा से मांग रहा है यहीं दुआ काग़ज़ 

उंदेल पायी न दिल का गुबार कागज़ पर 
मैं सोचती ही रही तुमने भर दिया काग़ज़ 

जहाँ ज़बान ओ बयाँ दोनों हार बैठे थे 
वहां सबूत बना काम आ गया काग़ज़

हमारे जिस्म में क्या क्या नहीं है और क्या है
हमें ये खुद ही बताता हैं जाँच का काग़ज़

किसी भी ख़ोज में निकले कहीं भी दुनिया में
मेरा रफीक़ मेरा रहनुमा बना काग़ज़

अदालतों में भी झूठी गवाहियों के लिए
तमाम उम्र जबां खोलता रहा कागज़

कभी हमारा भी फ़न बोलता था काग़ज़ पर
कभी हमारे कलम का ग़ुलाम था काग़ज़

नज़र नज़र से पयाम ओ सलाम लेते थे
हमारे वास्ते बिल्कुल हराम था काग़ज़

BIKHAR GAYA TO KOYI KYO SAMET TA KAGHAZ
YE ZINDGI BHI HAI JAISE UDHAR KA KAGHAZ

LIKHE TO KOYI MUJHE DARD AASHNA KAGHAZ
KHUDA SE MANG RAHA HAIN YAHEEN DUA KAGHAZ

UNDEL PAAYI N DIL KA GUBAAR KAGHAZ PAR
SOCHTI HI RAHI TUMNE BHAR DIYA KAGHAZ

JAHAN ZABAN O BAYAN DONO HAR BAITHE THE
WAHAN SUBOOT BANA KAM AA GAYA KAGHAZ

HAMARE JISM ME KYA KYA NAHIN HAI AUR KYA HAI-
HAMEN YE KHUD HI BATATA HAI JANCH KA KAGHAZ

KISI BHI KHOOJ PE NIKLI KAHIN BHI DUNIYA ME-
MERA RAFEEQ MIRA RAHNUMA BANA KAGHAZ--

ADALATO N ME BHI JHOOTHI GAWAHIYON KE LIYE -
TAMAM UMR ZABAN KHOOLTA RAHA KAGHAZ--

KABHI HAMARA BHI FAN BOOLTA THA KAGHAZ PAR-
KABHI HAMARE QALAM KA GHULAM THA KAGHAZ

NAZAR NAZAR SE PAYAM O SALAM LETE THE
HAMARE WASTE BILKUL HARAM THA KAGHAZ

राह दुश्वार सही चलते ही जाना है सिया

nazm

ज़िन्दगी जैसी है इसको हमें जीना होगा
ज़हर भी है तो इसे शौक़ से पीना होगा

आँख से आंसू जो टपकेंगे तमाशा होगा 
दूर हो जाएगा वो भी जो शनासा होगा 

रोने वालों का कोई साथ नहीं देता है 
हाथ में उनके कोई हाथ नहीं देता है 

राह दुश्वार सही चलते ही जाना है सिया
इन अंधेरों में हमें रोज जलाना है दिया.....

zindagi jaisi hai isko hame jeena hoga
zahar bhi hai to ise shouk se peena hoga

aankh se aansu jo tapkege tamasha hoga
door ho jayega wo bhi jo shanasa hoga

rone walo ka koyi saath nahi deta hai
hath mein unke koyi haath nahi deta hai

rah dushvaar sahi chalte he jaana hai siya
in andhero'n mein hame roj jalaana hai diya 

फ़रेब दिल में ,दिखावे की दोस्ती क्यों है


ये दुश्मनी ,ये हिकारत ये बेहिसी क्यों है 
फ़रेब दिल में ,दिखावे की दोस्ती क्यों है 

ये शम्मा दिल में उम्मीदों की जल रही क्यों है
अँधेरे घर में ये थोड़ी सी रोशनी क्यों है

ख़फ़ा खफ़ा हैं वो मुझसे तो लोग सोचते हैं
ताल्लुक़ात की खेती हरी भरी क्यों है

अगर नहीं है ये आती बहार की आहट
तो फिर हवाओं में इस दरज़ा ताज़गी क्यों है

मिरे बगैर भी जीना अज़ीज़ हैं तुमको
तुम्हारी आँख में अश्कों की ये नदी क्यों है

असर हुआ ही नहीं जब दुआओं का मुझ पर
उदास दिल की तहों में छुपी ख़ुशी क्यों है

सिया तुझे अभी दीदार यार होना हैं
समझ में क्यूं नहीं आता ये तश्नगी क्यूं है

Ye dushmani, Ye Hiqarat,Ye behisi Kyon Hai,,,
fareb dil mein,dikhave ki dosti kyun hai

Yeh shamma dil men umeedoN ki jal rahee kyuuN hai
Andhere ghar meN yeh thodi see roshni kyuun hai

khafa khafa hain wo mujhse to log sochte hain
talluqaat ki kheti hari bhari kyun hain

agar nahi hain ye aati bahar ki aahat
to fir havaon mein is darza tajgi kyun hai

mire bagair bhi jeena azeez hain tumko
tumahari aankh mein ashqo ki ye nadi kyun hai

asar hua hi nahi jab duaon ka mujh par
udaas dil ki tahon mein chupi khushi kyun hain

siya tujhe abhi deedar e yaar hona hai
samajh mein kyun nahi aata te tashnagi kyu hai

तन्हाईयों में उसको कई बार देख कर

आँखों में मेरी प्यार का इक़रार देख कर 
सरशार वो भी है मुझे सरशार देख कर 

सीखी हैं मैंने उससे बड़ी दिलरुबाइयां 
तन्हाईयों में उसको कई बार देख कर 

दिल में ख़ुशी की लहर न दौड़े तो क्या करे
होठों पे तेरे ज़ाहिरी इनकार देख कर 

वो ख़ुद पिला रहा था मुझे मारिफ़त के जाम
कल मैकदे में मुझको लगातार देख कर

खिलते हुए गुलाब को जी भर के देखिये
भरना हैं ज़िन्दगी में अगर प्यार,देख कर

युसुफ़ का आज कोई ख़रीदार ही नहीं
लौटी हूँ मैं भी मिस्र का बाज़ार देख कर

ख़ुद पर ही ए सिया मेरा क़ाबू नहीं रहा
दुनिया को तेरे ग़म का तलबगार देख कर

aankho mein pyaar ka iqraar dekh kar
sarshar wo bhi hain mujhe sarshar dekh kar

seekhi hai maine usse badi dilrubaaiyaan
tanhaaiyon mein usko kayi baar dekh kar

dil mein khushi ki lahar n daude too kya kare
hotho pe tere zahiri inqaar dekh kar

wo khud pila raha tha mujhe maarifat ke jaam
kal maqde mein mujhko lagataar dekh kar

khilte hue gulaab ko jee bhar ke dekhiye
bharna hai agar zindgi mein pyaar,dekh kar

yusuf ka aaj koyi khreeddaar hi nahi
lauti hoon main bhi misr ka baazaar dekh kar

khud par hi aye siya mera qaabu nahi raha
duniya ko tere gham ka talabgaar dekh kar

Wednesday, 18 July 2012

यहीं तो है की जो जीना हमें सिखाते हैं

ये रोज़ रोज़ जो ग़म ज़िन्दगी में आते है 
यहीं तो है की जो जीना हमें सिखाते हैं 

जो इश्तेहार पे अपनी हवा बनाते है
वो कुछ दिनों में अंधेरों में डूब जाते हैं 

मुसाफ़तो ने ही मंज़िल की दूरियां कम की 
हमारे पावं के छाले भी मुस्कुराते हैं 

ज़मीन ए दिल को भिगोते नहीं है बारिश में 
उदास आँखों में आंसू भी सूख जाते हैं

ये नफरतों के परिंदे भी शाम होते ही
तमाम जलते दियों को धुवाँ बनाते हैं

तुम्हारी याद जब आती है खान ए दिल में
तो फिर सितारे भी पलकों पे झिलमिलाते हैं

वहीं जो करता है पूरी मुराद दुनिया की
उसी के दर पे 'सिया' हम भी सर झुकाते हैं

ye roz roz jo gham zindgi mein aate hain
yaheen to hai ki jo jeena hame sikhaate hain

jo ishtehaar pe apni hava banaate hain
wo kuch dino mein andhero'n mein doob jaate hain

musafato ne hi manzil ki duriya'n kam ki
hamaare pavn ke chaale bhi muskuraate hain

zameen e dil ko bhigote nahi hai barish mein
udaas ankhon mein aansu bhi sookh jaate hai'n

ye nafrato'n ke parinde bhi shaam hote hi
tamaam jalte diyo'n ko dhuvan banaate hain

tumahari yaad jab aati hai khan e dil mein
to fir sitare bhi palko'n pe jhilmilate hain

waheen jo karta hai puri muraad duniya ki
usi ke dar pe 'siya 'hum bhi sar jhukaate hain

Sunday, 15 July 2012

हाथ फिर अपने मल गयी बारिश

हाथ फिर अपने मल गयी बारिश 
मुझको छूते ही जल गयी बारिश 

दूर वीरान सी हवेली को
कैसे धोकर निकल गयी बारिश

इस ज़मीं के लिबास को देखो
धानी रंग में बदल गयी बारिश

अपने घर -बार जो गवां बैठे
उन सभी को तो खल गयी बारिश

छंट गयी बदली धूप सी चमकी
ऐसा लगता है टल गयी बारिश

देखो क्या क्या बहा के ले जाए
आज हद्द से निकल गयी बारिश

धूप की आग में जली दिन भर
फिर तो घुटनों के बल  गयी बारिश

जिसकी जिसकी भी जो समस्या थी
कर के उन सबका हल गयी बारिश

hath fir apne mal gayi baarish
mujhko chute hi jal gayi baarish

door weeran si haveli ko
kaise dhokar nikal gayi baarish

is zameen ke libas ko dekho
dhani rang mein badal gayi baarish

apne ghar-baar jo gaNwa baithe
un sabhi ko to khal gayi baaris

chat gayi badri dhoop si chamki
aisa lagta hai tal gayi baarish

dekho kya kya baha ke le jaaye
aaj hadd se nikal gayi baarish

dhoop ki aag mein jali din bhar
fir to ghutno ke bal gayi baarish

jiski jiski bhi jo samsyaa thi
karke un sabka hal gayi baarish