Sunday, 15 July 2012

हाथ फिर अपने मल गयी बारिश

हाथ फिर अपने मल गयी बारिश 
मुझको छूते ही जल गयी बारिश 

दूर वीरान सी हवेली को
कैसे धोकर निकल गयी बारिश

इस ज़मीं के लिबास को देखो
धानी रंग में बदल गयी बारिश

अपने घर -बार जो गवां बैठे
उन सभी को तो खल गयी बारिश

छंट गयी बदली धूप सी चमकी
ऐसा लगता है टल गयी बारिश

देखो क्या क्या बहा के ले जाए
आज हद्द से निकल गयी बारिश

धूप की आग में जली दिन भर
फिर तो घुटनों के बल  गयी बारिश

जिसकी जिसकी भी जो समस्या थी
कर के उन सबका हल गयी बारिश

hath fir apne mal gayi baarish
mujhko chute hi jal gayi baarish

door weeran si haveli ko
kaise dhokar nikal gayi baarish

is zameen ke libas ko dekho
dhani rang mein badal gayi baarish

apne ghar-baar jo gaNwa baithe
un sabhi ko to khal gayi baaris

chat gayi badri dhoop si chamki
aisa lagta hai tal gayi baarish

dekho kya kya baha ke le jaaye
aaj hadd se nikal gayi baarish

dhoop ki aag mein jali din bhar
fir to ghutno ke bal gayi baarish

jiski jiski bhi jo samsyaa thi
karke un sabka hal gayi baarish

No comments:

Post a Comment