Friday, 29 June 2012

तुम जो कहते हो अना है तो अना रखते हैं

दिल के ज़ख्मों पे यहीं एक दवा रखते हैं 
अपने महबूब के दामन की हवा रखते हैं 

सरबलंदी हमें अल्लाह अता करता हैं 
हम तो सर अपना सरे -नोके सिना रखते हैं. 

जिनको मंज़िल पे पहुचना है वो चलते है ज़रूर
फिक्र ख़ारों की कहाँ आबला-पा रखते हैं

ख्वाब हम अपने छुपाते है ज़माने भर से
उनपे एहसास की पलकों की रिदा रखते हैं

आग नफ़रत की किसे फूलने फलने देगी
अपने आमाल से हम इसको बुझा रखते हैं

मुश्किलें राह में आती है चली जाती है
हम तो हर हाल में जीने की अदा रखते हैं

अपनी इज्ज़त का हमें पास है लेकिन हमसे
तुम जो कहते हो अना है तो अना रखते हैं

हमसे तक़लीद किसी की नहीं होती है सिया
शेरगोई में भी अंदाज़ जुदा रखते हैं

dil ke zakhmo'n pe yaheen ak dawa rakhte hain
apme mehboob ke daaman ki hava rakhate hain

sarbaladi hame allah ata karta hain
hum to sar apna sare-noke sina rakhte hain

jinko manzil pe pahunchana hai wo chalte hai jarur
fiqr kharo'n ki kahan aabla -pa rakhte hain

khwaab hum apne chupaate hai zamaane bhar se
unpe ehsaas ki palko ki rida rakhte hain

aag nafrat ki kise fhoolne fhalne degi
apne aamaal se hum isko bhuja rakhte hain

mushkile raah mein aati hai chali jaati hai
hum to har haal mein jeene ki ada rakhte hain

apni izaat ka hame paas hai lekin humse
tum jo kahte ho ana hai to ana rakhte hain

humse taqleed kisi ki nahi hoti hai 'siya'
sher goyi mein bhi andaz juda rakhte hain ..

No comments:

Post a Comment