Wednesday, 18 July 2012

यहीं तो है की जो जीना हमें सिखाते हैं

ये रोज़ रोज़ जो ग़म ज़िन्दगी में आते है 
यहीं तो है की जो जीना हमें सिखाते हैं 

जो इश्तेहार पे अपनी हवा बनाते है
वो कुछ दिनों में अंधेरों में डूब जाते हैं 

मुसाफ़तो ने ही मंज़िल की दूरियां कम की 
हमारे पावं के छाले भी मुस्कुराते हैं 

ज़मीन ए दिल को भिगोते नहीं है बारिश में 
उदास आँखों में आंसू भी सूख जाते हैं

ये नफरतों के परिंदे भी शाम होते ही
तमाम जलते दियों को धुवाँ बनाते हैं

तुम्हारी याद जब आती है खान ए दिल में
तो फिर सितारे भी पलकों पे झिलमिलाते हैं

वहीं जो करता है पूरी मुराद दुनिया की
उसी के दर पे 'सिया' हम भी सर झुकाते हैं

ye roz roz jo gham zindgi mein aate hain
yaheen to hai ki jo jeena hame sikhaate hain

jo ishtehaar pe apni hava banaate hain
wo kuch dino mein andhero'n mein doob jaate hain

musafato ne hi manzil ki duriya'n kam ki
hamaare pavn ke chaale bhi muskuraate hain

zameen e dil ko bhigote nahi hai barish mein
udaas ankhon mein aansu bhi sookh jaate hai'n

ye nafrato'n ke parinde bhi shaam hote hi
tamaam jalte diyo'n ko dhuvan banaate hain

tumahari yaad jab aati hai khan e dil mein
to fir sitare bhi palko'n pe jhilmilate hain

waheen jo karta hai puri muraad duniya ki
usi ke dar pe 'siya 'hum bhi sar jhukaate hain

No comments:

Post a Comment