Friday, 20 July 2012

फ़रेब दिल में ,दिखावे की दोस्ती क्यों है


ये दुश्मनी ,ये हिकारत ये बेहिसी क्यों है 
फ़रेब दिल में ,दिखावे की दोस्ती क्यों है 

ये शम्मा दिल में उम्मीदों की जल रही क्यों है
अँधेरे घर में ये थोड़ी सी रोशनी क्यों है

ख़फ़ा खफ़ा हैं वो मुझसे तो लोग सोचते हैं
ताल्लुक़ात की खेती हरी भरी क्यों है

अगर नहीं है ये आती बहार की आहट
तो फिर हवाओं में इस दरज़ा ताज़गी क्यों है

मिरे बगैर भी जीना अज़ीज़ हैं तुमको
तुम्हारी आँख में अश्कों की ये नदी क्यों है

असर हुआ ही नहीं जब दुआओं का मुझ पर
उदास दिल की तहों में छुपी ख़ुशी क्यों है

सिया तुझे अभी दीदार यार होना हैं
समझ में क्यूं नहीं आता ये तश्नगी क्यूं है

Ye dushmani, Ye Hiqarat,Ye behisi Kyon Hai,,,
fareb dil mein,dikhave ki dosti kyun hai

Yeh shamma dil men umeedoN ki jal rahee kyuuN hai
Andhere ghar meN yeh thodi see roshni kyuun hai

khafa khafa hain wo mujhse to log sochte hain
talluqaat ki kheti hari bhari kyun hain

agar nahi hain ye aati bahar ki aahat
to fir havaon mein is darza tajgi kyun hai

mire bagair bhi jeena azeez hain tumko
tumahari aankh mein ashqo ki ye nadi kyun hai

asar hua hi nahi jab duaon ka mujh par
udaas dil ki tahon mein chupi khushi kyun hain

siya tujhe abhi deedar e yaar hona hai
samajh mein kyun nahi aata te tashnagi kyu hai

No comments:

Post a Comment