Thursday, 4 October 2012

तेरे हिसार में रहती है ज़िन्दगी मुखलिस

तिरे बदन में गुलाबों की ताजगी मुखलिस
तेरे हिसार में रहती है ज़िन्दगी मुखलिस 

मैं पेश पेश थी तेरा दिफाह करने में 
मेरा यक़ीन तो कर है ये बरतरी मुखलिस 

जो नफरतों के समंदर लिए था सीने में 
मोहब्बतों से मेरी बन गया वहीं मुखलिस 

हिसार जिस्म को रखती है अपने क़ाबू में 
फिज़ा में गूंजने वाली है धौकनी मुखलिस 

जहां जबां पे हकूमत लगाये हो पहरा 
वहां पे शोर मचाती है खामुशी मुखलिस 

फ़ज़ा में बजता है अब भी तराना ए तौहीद
तहारतो का रवैयाँ  है आज भी मुफलिस 

कभी रहो तो कनातों पसंद लोगों में 
तो फिर लगेगी तुम्हे अपनी आगही मुफलिस 

अगरचे साफ़ है दिल का हसीन आइना 
तो फिर करेगा कभी ख़ुद सपुर्दगी मुखलिस 

ताल्लुकात की बूढी हसीन झीलों में 
मजे से तैरती रहती है  दोस्ती मुखलिस 

tire badan mein gulabo'n ki tazgi mukhlis 
tire hisaar mein rahti hai zindagi mukhlis 

main pesh pesh thi tera difaah karne mein 
mira yaqeen to kar hai ye bartari mukhlis 

jo nafrato'n ka samndar liye tha seene mein
mohbaato'n se meri ban gaya waheen mukhlis

hisaar_e_jism ko rakhti hai apne qabu mein 
faza mein goonjane wali hai dhaukani mukhlis 

jahan jaban pe haqumat lagaye ho pahra 
wahan pe shor machati hai khamushi mukhlis 

faza mein bajta hai ab bhi tarana e tauheed 
tahartoo'n ke ravaiye hai aaj bhi mukhlis

kabhi raho to qanato pasand logo mein  
to fir lagegi tumhe'n apni aagahi mukhlis 

agarche saaf ho dil ka haseen aaina 
to fir karenge sabhi khud sapurdagi mukhlis 

talluqaat ki bhudhi haseen jheelon mein 
maze se tairti rahti hai dosti mukhlis 


ज़िन्दगी भर जो ना समझा कभी मेरे जज़्बात

उससे किस तरह कहें आज भला दिल की बात
ज़िन्दगी भर जो ना समझा कभी मेरे जज़्बात 

दिल पे नश्तर सी लगे जाके तेरी कडवी बात 
क्या मिलेगा तुम्हे यूँ करके मिरे दिल पे घात

जागने की तुझे आदत है स्याह रातों में 
हाँ मगर सो ही गए है तेरे दिल के जज़्बात 

न तो दिन की ही ख़ुशी है न ही ग़म रातों का 
एक जैसे ही मुझे लगने लगे हैं दिन रात

मैंने बरसों से जिसे दिल में छुपाये रक्खा
घुट न जाए मिरे सीने में मिरे दिल की बात

इक बेचैनी सी रहती है मिरे सीने में
मुझको बेचैन किये रहते हैं तेरे सदमात

जिस क़दर लोगों ने आसूदा समझ रक्खा है
उतने अच्छे भी नहीं दोस्तों मेरे हालात

इतनी जल्दी न कहो मुझसे ख़ुदा हाफ़िज़ तुम
कितनी मुद्दत में मयस्सर हुई ग़म की सौगात

मेहरबां रहता है हर वक्त सिया मेरा ख़ुदा
मैं भी करती हूँ दुआ सर पे रहे उसका हाथ

शहरे _उम्मीद में भी ताज़ा हवा है शायद




ख़ामुशी रक्स में है शोर मचा है शायद 
शहरे _उम्मीद में भी ताज़ा हवा है शायद 

खिंच गयी है मिरे सीने में कोई सर्द लकीर
तेरे कूंचे में बड़ी तेज़ हवा है शायद

धूप के शहर में रहती हूँ तिरी छावं तले
मेरे मौला ये मिरे दिल की दुआ है शायद

सोचती हूँ के किसी रोज़ मुझे मिल जाये
आप के पास मेरे ग़म की दवा है शायद ...

आज फिर उसने ख्यालों में मचा दी हलचल
कब का बिछड़ा वो मुझे आज मिला है शायद

फूल को शाख़ से इक बार जुदा कर के मैं
सोचती रह गयी ये कारे _जफ़ा है शायद

आज तक हमने जला रक्खे हैं आँखों के दिए
उसके आने की भी उम्मीद सिया है शायद

khamushi raqs mein hai shor macha hai shayad
shahre_ummed mein bhi taza hava hai shayad

khich gayi hai mire seene mein koyi sard lakeer
tere qunche mein badi tez hava hai shayad

dhoop ke shahar mein rahti hoon tiri chavn tale
mere maula ye mire dil ki dua hai shayad 

sochti hoon ke kisi roz mujhe mil jaaye
aap ke paas mere gham ki dawa hai shayad


aaj fir usne khyaalon mein macha di halchal
kab ka bichhda wo mujhe aaj mila hai shayad

fool ko shakh se ik baar baar juda kar ke main
sochti rah gayi ye kare_zafa hai shayad

aaj tak humne jala rakkhe hai aankho ke diye
uske aane ki bhi ummed siya hai shayad ..

sochti hoon ke kisi roz mujhe mil jaaye
aap ke paas mere gham ki dawa hai shayad

मोहब्बत क़दर ओ क़ीमत खो रही है

वफ़ा हालत पे अपनी रो रही है 
मोहब्बत क़दर ओ क़ीमत खो रही है 

तू किस पर मेहरबाँ हो कौन जाने
तिरी उम्मीद तो सबको रही है

परेशां है वो अपने ग़म से लेकिन
मुझे भी कुछ अज़ीयत हो रही है

मुझे लगता है शायद आज तुमको
कमी महसूस मेरी हो रही है

यहाँ तो खाक़ है पैरों के नीचे
मोहब्बत अपनी सांसे खो रही है

सुनी है फिर तेरे क़दमों की आहट
अजब सी दिल में हलचल हो रही है

मेरे पैरों के छाले रिस रहे है
मुसाफ़त पावं अपने धो रही है

सिया सब कुछ दिया है ज़िन्दगी ने
तमन्ना दिल की पर कुछ और ही है

wafa halat pe apni ro rahi hai
mohbbat qadar o qeemat kho rahi hai

tu kis par meherbaan ho kaun jaane
tiri ummeed to sabko rahi hai

preshan hai wo apne gham se lekin
mujhe bhi kuch azeeyat ho rahi hai

mujhe lagta hain shayad aaj tumko
kami mehsus meri ho rahi hai

yahan to khaq hai pairon ke neeche
mohbaat apne sanse kho rahi hai

suni hai fir tere qadmon ki aahat
ajab si dil mein halchal ho rahi hai

mere pairon ke chale ris rahe hai
musafat pavn apne dho rahi hai

siya sab kuch diya hai zindgi ne
tamnna dil ki par kuch aur hi hai 

ye khula asman he pyare


hasratoN ki udan he pyare
ye khula asman he pyare
har taraf khoon qatl barbadi
phir bhi bharat mahaan he pyare
kuchh na koi bigad payega
waqt jab mehrbaan he pyare
ham jahan par qayam karte hen
wo zameeN asman he pyare
zakhm jo tha wo bhar gaya lekin
dil pe ab tak nishan he pyare
uske dil men bhi jhaNk kar dekho
jiski meethi zabaan he pyare
teri tasveer kya banauN men
kaghazoN par thakaan hai pyaare
har maraz ka ilaaj he mumkin
sab ghamoN ka nidaan he pyare
teer to tere hath he lekin
paas mere kamaan he pyare
apne qad ka bhi jayeza lelo
kitni jhoothi ye shan hai pyaare
mujh ko duniya se kya gharaz he siya
mera apna jahan he pyare