Thursday, 4 October 2012

मोहब्बत क़दर ओ क़ीमत खो रही है

वफ़ा हालत पे अपनी रो रही है 
मोहब्बत क़दर ओ क़ीमत खो रही है 

तू किस पर मेहरबाँ हो कौन जाने
तिरी उम्मीद तो सबको रही है

परेशां है वो अपने ग़म से लेकिन
मुझे भी कुछ अज़ीयत हो रही है

मुझे लगता है शायद आज तुमको
कमी महसूस मेरी हो रही है

यहाँ तो खाक़ है पैरों के नीचे
मोहब्बत अपनी सांसे खो रही है

सुनी है फिर तेरे क़दमों की आहट
अजब सी दिल में हलचल हो रही है

मेरे पैरों के छाले रिस रहे है
मुसाफ़त पावं अपने धो रही है

सिया सब कुछ दिया है ज़िन्दगी ने
तमन्ना दिल की पर कुछ और ही है

wafa halat pe apni ro rahi hai
mohbbat qadar o qeemat kho rahi hai

tu kis par meherbaan ho kaun jaane
tiri ummeed to sabko rahi hai

preshan hai wo apne gham se lekin
mujhe bhi kuch azeeyat ho rahi hai

mujhe lagta hain shayad aaj tumko
kami mehsus meri ho rahi hai

yahan to khaq hai pairon ke neeche
mohbaat apne sanse kho rahi hai

suni hai fir tere qadmon ki aahat
ajab si dil mein halchal ho rahi hai

mere pairon ke chale ris rahe hai
musafat pavn apne dho rahi hai

siya sab kuch diya hai zindgi ne
tamnna dil ki par kuch aur hi hai 

No comments:

Post a Comment