Saturday, 12 December 2015

नज़्म -----दर्द साँसो के साथ चलता है



तुमको सच्ची ये बात समझाती 
दर्द कुछ कम तुम्हारा कर पाती 
इस जहाँ में सभी परेशां हैं
सबके जीवन में ग़म के तूफां हैं 
लोग दुनिया में कैसे जीते है
 ग़म निगलते है अश्क पीते हैं 
दर्द साँसो के साथ चलता है 
ग़म का मौसम कहा बदलता है 
ग़म ज़रूरी है दिल को समझाओ 
भूल कर खुद को मेरे हो जाओ 


tumko sachi ye baat samjhati dard kuch kam dilo se kar paati is jahaN me sabhi pareshaN haiN sab ke jeewan me gham ke tufaN haiN log dunia me kaise jeete hain 
gham nigalte haiN ashk peete haiN dard sansoN ke sath chalta hai gham ka mausam kahan badalta hai gham zaruri haiN dil ko samjhao bhul kar khud ko mere ho jao siya

No comments:

Post a Comment