Saturday, 12 December 2015

एक नज़्म --- सिर्फ़ तुम्ही ग़मगीन नहीं हो

काश मैं ऐसा कुछ कर पाती
दर्द तुम्हारे कम कर पाती
सिर्फ़ तुम्ही ग़मगीन नहीं हो
काश तुम्हें ये समझा पाती

और भी हैं दुनिया में परेशाँ
जिनके साथ हैं ग़म के तूफ़ाँ
तुम ही नहीं हो दर्द के मारे
यहाँ दुखी हैं सारे इन्सां

हर दिल में ग़म छुपा हुआ है
जिसको देखो दुखा हुआ है
दुनिया भर के बोझ हैं सर पर
हर इक चेहरा बुझा हुआ है

मर मर के यूँ जीना कब तक
ज़ह्र के प्याले पीना कब तक
नया हौसला लेकर उठ्ठो
यूँ पीटोगे सीना कब तक

तुम तो टूट गए हो ऐसे
कोई खिलौना टूटे जैसे
तुम पर औरों का भी हक़ है
हार गए तुम जीवन कैसे

kash main aisa kuch kar pati
dard tumhara kam kar paati
sirf tumhi ghamgeen nahi ho
kash tumhe ye samjha paati

aur bhi hain duniya me pareshan
sahte hain jo gham ke tufaan
tumhi nahi ho dard ke maare
yahan dukhi hai har ik insaaN

har dil men gham chupa hua hai
jisko dekho dukha hua hai
duniya bhar ke bojh hai sar par
har ik chehra bujha hua hai

mar mar yun jeena kab tak
zehr ke pyaale peena kab tak
naya hausla lekar uttho
yun peetoge seena kab tak

toot gaye ho tum to aise
koyi khilona toote jaise
tum par bhi haq hai auro ka
haar gaye jeevan se kaise

====================
सिया

No comments:

Post a Comment