Wednesday, 26 November 2014

दरमियाँ कितने ज़माने आये


फिर वो मौसम न सुहाने आये 
दरमियाँ कितने ज़माने आये 

काश टूटे तो किसी तौर जमूद 
कोई दीवार गिराने आये 

रंज ओ ग़म पर ये तमाशाई मिरे 
जश्न मातम का मनाने आये

मेरी ख़ुद्दारी ने मुँह मोड़ लिया 
मेरे क़दमों पे ख़ज़ाने आये 

उम्र लम्हों में सिमट आई थी 
आप जब मुझको मनाने आये 


घर किराये का है फ़ानी दुनिया 
चार ही दिन तो बिताने आये 



Phir wo mausam na suhaane aaye.
Darmiyaa'n kitne zamaane aaye.

Kaash toote to kisi taur jamood.
Koi deewaar giraane aaye .

Ranj-o-gham par ye tamaashai mire 
jashn maatam ka manane aaye

Meri khuddari ne munh mod liya .
Mere qadmo .n pe khazane aaey

Umr lamho 'n me simat aayi thee .aap jab mujh ko manane aaye


Ghar kiraaye ka hai faani duniya
Char hi din to bitaane aaye.



siya

2 comments:

  1. हृदयसपर्शी ...सिया जी

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete