Saturday, 22 November 2014

मेरे पैरोँ तले ज़मीं भी है

कुछ गुमाँ भी है कुछ यक़ीं भी है 
मेरे पैरोँ तले ज़मीं भी है 

वहशत ए दिल का क्या करूँ मैं ईलाज
पास है और वो नहीं भी है 

जा बजा उसको ढूढ़ती हूँ मैं
और मेरे दिल में वो मक़ीं भी है

ज़िंदगी तेरा ऐतबार नहीं
मौत पर तो मुझे यक़ी भी है

ये तो अच्छा नहीं तरीक़ा भी 
हाँ भी करते हो और नहीं भी है 

मैं पुजारन हूँ वो है रब मेरा 
ढूँढ लूँगी जहाँ कहीं भी है 

क्यों ख़फ़ा रहती है सिया ख़ुद से 
देख दुनिया बड़ी हसीं भी है 


kuchh gumaaN bhi hai kuchh yaqeeN bhi hai
mere pairoN tale zameeN bhi hai

wahshat e dil ka kya karu'n main ilaaj
paas hai aur wo nahi'n bhi hai 

 ja baja usko dhudhnti hoon main 
aur mere dil mein wo Maqee'N bhi hai 

zindgi tera aitbaar nahi 
  Maut par to mujhe Yaqee'n,Bhi Hai

 ye to acha nahin  tarika bhi 
haan bhi karta hai aur nahiN bhi hai


main pujaran hoon rab hai tu mera
dhudh lungi jahan kaheen bhi hai 

kyun khafa rahti hai siya khud se 
dekh duniya badi hansi bhi hai



No comments:

Post a Comment