Thursday, 20 November 2014

अब तरसते हैं मुस्कुराने को

खेल समझे थे दिल लगाने को 
अब तरसते हैं मुस्कुराने को
मुस्तैद है हँसी उड़ाने को 
आग लग जाए इस ज़माने को 

एक लम्हे में याद आती है 
मुद्दतें चाहिये भुलाने को 

आप महफ़िल सजाइये अपनी 
हम है तैयार दिल जलाने को 

जिनके अंदर हैं खामियाँ लाखों 
ऐब आये मेरे गिनाने को 
khel samjhe the dil lagane ko 
ab tarasate hain muskuraane ko 

"Mustayad hai hansi udaane ko 
aag lag jaaye is zamaane ko 

ek lamhe mein yaad aati hai
muddaten chahiye bhulaane ko 

aap mehfil sajaiyen apni 
hum hai taiyaar di jalane ko

jinko andar hain khamiya.n lakho'n 
aib aaye mere ginanae ko 

No comments:

Post a Comment