Monday, 17 November 2014

वो उंगुलियों पे हर एक दिन शुमार करता है

mufaailaatun faoolun mufaailun felun..
12121... 122.... 1212... 22

बिछड़ के मुझसे मेरा इंतज़ार करता है
वो उंगुलियों पे हर एक दिन शुमार करता है
बिछा दिया मिरी राहों में अपना दिल तूने
ये काम वो है जो इक जाँ _निसार करता है
कोई सितारा ए सहरी है या मेरी यादे
कोई तो है जो उसे बेक़रार करता है
उबूर करता है हर इक भंवर को तेरा ख्याल
बगैर नाव के दरिया को पार करता है
यहाँ तो जिसकी ज़ुबाँ पर मैं ऐतबार करूँ
वोही यक़ीं को मेरे तार तार करता है
दुखा के दिल को तेरे आया कब क़रार मुझे
मिरा ज़मीर मुझे शर्मसार करता है
ताल्लुक़ात में दौलत न लाइयें साहेब
ये पैसा रिश्तों में पैदा दरार करता है
वो दुश्मनों के इरादों को भांप कर उन पर
बड़े सधे हुए हाथो से वार करता है
सिया मैं जान भी दे दू तो इससे क्या होगा
वो दोस्तों में मुझे कब शुमार करता है
bichhad ke mujhse mera intzaar karta hai
wo unguliyo'n pe har ek din shumaar karta hai
bichha dia miri raho'n meiN apna dil tune
ye kam wo hain jo ik jaan_nisaar karta hai
koyi sitara e sahri hai ya meri yaadeN
koyi to hai jo use beqarar karta hai
uboor karta hai har ik bhaNvar ko tera khayal
bagair naav ke dariya ko paar karta hai
yahan to jiski zubaan par main aitbaar karun
wohi yaqee'N ko mere taar taar karta hai
dukha ke dil ko tere aaya kab qaraar mujhe
mira zameer mujhe sharmsaar karta hai
ta,alluqat me daulat na layiye saheb..
ye Paisa rishto mein paida darar karta hai
wo dushmano ke irado ko bhanp kar un par
bade sadhe hue hatho se waar karta hai
siya main jaan bhi de du to isse kya hoga
wo dosto mein mujhe kab shumaar karta hai
siya sachdev

No comments:

Post a Comment