Wednesday, 6 August 2014

तलाशें कुछ ख़ुशी इस ज़िंदगी से

उबरना है अगर इस बेकली से 
 तलाशें कुछ ख़ुशी इस ज़िंदगी से  

चमक यूँहीं नहीं चेहरे पे मेरे 
मुसलसल जंग की है मुफ़लिसी से 

दिखावे की है जिनकी गर्मजोशी 
मिले उनसे बताओ क्या ख़ुशी से 

असर होगा तुम्हारे दिल पे इसका 
कहे हैं शेर ये संजीदगी से 

खुली जब आँख तो देखा है मैंने 
उजाला लड़ रहा है तीरगी से 

सिया ये ठोकरें खा कर है जाना 
नहीं मिलता है कुछ भी सादगी से 

ubrana hai agar is bekali se 
talashe'n  kuch khushi is zindgi se 

dikhave ki hai jinki garmjoshi 
mile unse batao kya khushi se 

chamak yuheen nahi chehre pe mere 
musalsal jung ki hai muflisi se 

asar hoga tumhare dil pe iska 
kahe hai'n sher ye sanjeedagi se 

khuli jab aankh to dekha hai maine 
ujala lad raha hai teeragi se 

siya ye thokare'n kha kar hai jana 
nahi milta hai kuch bhi sadgi bhi 

2 comments:

  1. खूबसूरत अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  2. very touchinglines.....mam ji

    ReplyDelete