Wednesday, 13 August 2014

मेरे सवाल का शायद कोई जवाब नहीं

निगाह मुझसे मिलाने की उनमें ताब नहीं 
मेरे सवाल का शायद कोई जवाब नहीं 

बहुत दिनों से कोई दिल में इज़्तिराब नहीं 
समाया आँखों में अब और कोई ख़वाब नहीं 

मेरी अना तो अभी सरबुलंद है मुझ में 
मुझे शिकस्त भी दे कर वो कामयाब नहीं

ख़ुदा का शुक्र है,शर्म ओ हया सलामत है 
वो आईना है मगर मैं भी बे-हिजाब नहीं

बहार आने को आई समाँ नहीं बदला
खिले है ख़ार हर इक शाख़ पर गुलाब नहीं

यहाँ दिमाग़ नहीं दिल की होती है तालीम
हुजूर इश्क़ के मक़तब का कुछ निसाब नहीं

हिजाब में है हर इक राज़ मेरी हस्ती का
ज़माना शौक़ से पढ़ ले ये वो किताब नहीं

कोई बताये के सम्भलें तो किस तरह सम्भलें
मिली हैं ठोकरें इतनी की कुछ हिसाब नहीं

हाँ मेरे फन से मुनव्वर है इक जहाँ लेकिन
मैं एक ज़र्रा ए ख़ाकी हूँ आफताब नहीं

सिया सुकून से बाक़ी है जो गुज़र जाए
अब और रंज सहूँ इतनी मुझ में ताब नहीं

Nigaah mujhse milane ki un mein taab nahi
mere sawal ka shayad koyi jawab nahin

bahut dino se mere dil mein Izteraab nahi'n
samaya aankho mein ab aur koyi khwaab nahi'n

meri ana to abhi sarbuland hai mujh mein
mujhe shikast bhi de kar wo kamyaab nahi'n

khuda ka shukr hai, sharm o haya salamat hai
wo aaina hai magar main bhi be-hijaab nahin

bahaar aane ko aayi sama'N nahee'N badla
khile hain khar har ik shaakh per gulaab nahi'N

yahan dimagh nahin dil ki hoti hai taaleem
hujoor ishk ke matab ka kuch nisab nahi'n

koi bataaye ke sambhle'N to kis tarah sambhle'N
mili hai'n thokre'N itni ki kuch hisaab nahi'N

Hijaab mei hai har eik raaz meri hasti ka
zamana shouq se padh le ye wo kitab nahee'N

haa'N mere fun se munwwar hai ik jahan lekin
Main aik zarra e khaki hun aaftaab nahi

siya sukoon se baki hai jo guzar jaaye
Ab aur ranj sahooN itni mujh men taab nahi'N..

1 comment: