Saturday, 12 April 2014

chand sher

गुल को छूते ही महकती है हवा वैसे ही 
नेक सोहबत से ख्यालात बदल जाते है

gul ko choote hi mahakti hai hawa vaise hi 
nek sohbat se khyalaat badal jaate hain

siya
.....................................................................................

teri nigaah ne anmol kar diya mujh ko
nahi'N to zarre ko duniya mein kaun puche hai

तेरी निग़ाह ने अनमोल कर दिया मुझको
नहीं तो ज़र्रे को दुनिया में कौन पूछे है 
siya 
.....................................................................
hijr ki aag khud hi sukhegi
main ne phaela liya hai nam aanchal

हिज्र की आग खुद ही सूखेगी 
मैंने फैला लिया है नम आँचल 
siya 
………………………………………। 
इस दिले ज़ार की हालत पे करम फ़रमाओ
नर्म लहजे से कभी बात भी कर लो मुझसे

is dil e zaar ki haalat pe karam farmaaon
narm lahje se kabhi baat bhi kar lo mujhse

siya
…………………………………………।
zamane ne bahut daulat kama li 
magar daman mohbbat se hai khali 

ज़माने ने बहुत दौलत कमा ली 
मगर दामन मोहब्बत से है खाली 
.................................................................
kis ki dastak hai phir dar e dil par
jiska andaz tere jaisa hai 

किसकी दस्तक है फिर दरे दिल पर 
जिसका अंदाज़ तेरे जैसा है

siya
………………………………………… 
bahenge ab na qatere aansuvo'n ke
khusi ka ab rawaa'n dariya hua hai 

बहेंगे अब न क़तरे आँसुवों के
 ख़ुशी का अब रवाँ दरिया हुआ है 
siya
………………………………………
tarbiyat bhi badal saki na unhe
parvarish mein hi kuch kami hongi

तरबियत भी बदल सकी न उन्हें 
परवरिश में ही कुछ कमी होगी 
siya
………………………… 
aankho mein nami aur labo par hai tabbsum
uspe bhi ye kahna ke adakaar nahiN hai  
…………………………………………। 

मांगने जाउंगी किस किस से वफ़ा की  दौलत
 ले तेरे सामने ये दस्ते दुआ रक्खा है
mangne jaungi kis kis se wafa ki daulat
 le tere saamne ye dast e dua rakkha hai 
.............................................................

…………………………………………।
सर्द सन्नाटा हमें खा जाएगा 
आओ फिर से कोई हंगामा करें
sard sannata hame kha jayeega 
aao phir se koyi hungama kareN
…………………………………………। 

वो घबराना वो शर्माना हया आँखों में होती थी 
कभी ऐसे भी दिन थे जब वफ़ा आँखों में होती थी 
………………………………………… 

 हादसे गुज़रे है दिल पर मेरे दो चार अभी 
दर्द थम जाएगा लगते नहीं आसार अभी 
 Hadsay guzre hai dil par mere  Do Chaar abhi
 dard tham jayega lagte nahiN aasaar abhi 

siya
…………………………………………।

इतनी मुद्दत के बाद ये जाना
ज़िंदगानी का फ़लसफ़ा हो तुम 

itni muddat ke baad jaana
Zindagani ka falsafa ho tum

siya
………………………………………।

{Save Water! Save Life}
कल की तस्वीर यहीं होगी जनाब ए आली 
हमको पीने का भी पानी न मय्यसर होगा 
kal ki tasweer yaheeN hogi janab e aali 
humko peene ka bhi paani n mayysar hoga

siya
.........................................................

बे ख़याली में जिन्हें तू छोड़ कर जाता रहा
 तेरी यादों के वो कुछ लम्हें हमारे पास हैं 

Be-khayali mein jinhe tu chor kar jata raha
 teri yaadon ke wo kuch lamhe hamaare paas hain 

siya
…………………………………………।

किया है नाज़ जो क़तरे ने खुद पर
 समंदर हँस रहा है दूर जाकर
kiya hai naaz qatre ko khud par
 samandar hans raha hai door jaakar

siya

................................................

हमारे ख्बाब  कुछ  टूटे हैं  ऐसे तेरी राहों में
के अब देहलीज़ पर पलकों के भी आने से डरते है
…………………………………………। 

एहसास के ज़ख्मों पे भी रखती नहीं मरहम
 जीवन से कुछ इस तरह मैं नाराज़ हुई हूँ 

ehsaas ke zakhmon pe bhi rakhti nahi marham
 jeevan se kuch is tarah main naraaz hui hoon .....

siya
………………………………………………………………

बहुत है आजकल फुर्सत हुआ क्या 
तेरे दिल से कोई रुखसत हुआ क्या 
bahut hai aajkal fursat hua kya 
tere dil se koi rukhsat hua kya 

siya 
.........................................

सूरज बड़े ग़ुरूर से निकला था ए सिया
 कोहरे ने आ के ढक दिया उसके जमाल को 
suraj bahut ghuroor se nikla tha aye siya
kohre ne aa ke dhak diya uske jamaal ko

siya
…………………………………………।
हँसते रोते हमने सारा जीवन यहीं गुज़ार दिया
 कुछ लोगों ने नफरत की और कुछ लोगों ने प्यार दिया

hanste rote humne sara jeevan yaheeN guzaar diya 
kuch logoN ne nafrat ki aur kuch logoN ne pyaar diya 
......................................................................

किया है दर्द ने घर मेरे दिल में 
ख़ुशी में भी छलक आते हैं आँसू
kiya hai dard ne ghar mere dil mein 
khushi mein bhi chalak aate hai'N aansuN

siya
.......................................................

रिश्तों की कायनात  में सिमटी हुई मै
मुद्द्त से अपने आप को भूली हुई हूँ मै

rishto ki kaynaat mein simti hui main
muddat se apne aap ko bhuli hui hooN main 

कुछ न कुछ सर पे मुसल्लत है मुसीबत बन कर
ज़िंदगी में कहाँ आराम कभी मिलता है 
kuch n kuch sar pe musllat hai musibat ban kar
 zindgi mein kahan aaram kahaN milta hai 
........................................................................

रेल की  पटरी के जैसा साथ हम चलते रहे
 दूरियां जो दिल के अंदर थी अभी मौजूद हैं 

rail ki patri ke jaisa sath hum chalte rahe 
duriyan jo dil ke andar thi abhi maujud hain 

अब न वो दिन हैं न वो तुम तुम हो मगर जाने क्यूँ 
फाँस इक दिल में लगी अब भी चुभन देती है

Ab na wo din haiN  na wo tum ho magar jaane kyun 
phaNs ik dil mein lagi ab bhi chubhan deti hai 

 …………………………………………। 

गर्दिश -ए-वक़्त ने हालात ही बदल डाले
मेरे अपनों के ख्यालात ही बदल डाल

gardish e waqt ne halaat hi badal daal
 mere apno ke khyalaat hi badal daale
......................................................

कुछ न कुछ सर पे मुसल्लत है मुसीबत बन कर
ज़िंदगी में कहाँ आराम कभी मिलता है 
kuch n kuch sar pe musllat hai musibat ban kar
 zindgi mein kahan aaram kahaN milta hai 
........................................................................

रेल की  पटरी के जैसा साथ हम चलते रहे
 दूरियां जो दिल के अंदर थी अभी मौजूद हैं 

rail ki patri ke jaisa sath hum chalte rahe 
duriyan jo dil ke andar thi abhi maujud hain 

अब न वो दिन हैं न वो तुम तुम हो मगर जाने क्यूँ 
फाँस इक दिल में लगी अब भी चुभन देती है

Ab na wo din haiN  na wo tum ho magar jaane kyun 
phaNs ik dil mein lagi ab bhi chubhan deti hai 

 …………………………………………। 

गर्दिश -ए-वक़्त ने हालात ही बदल डाले
मेरे अपनों के ख्यालात ही बदल डाल

gardish e waqt ne halaat hi badal daal
 mere apno ke khyalaat hi badal daale
......................................................









No comments:

Post a Comment