Thursday, 3 April 2014

किसके क़दमों में ये सर अपना झुका रक्खा था

मैंने चाहत का खुदा किसको बना रक्खा था 
किसके क़दमों में ये सर अपना झुका रक्खा था 

हाँ वहीं ख्वाब तो टूटे हैं मेरी आँखों से 
मैंने मुद्दत से जिसे दिल में बसा रक्खा था 

झूठी खुशियों का ठिकाना ही नहीं है कोई 
ग़म का सरमाया कहाँ दिल से जुदा रक्खा था 

आज इक आस के पंछी का गला घोंट दिया
खाना ए दिल में बहुत शोर मचा रक्खा था

मुझको दुनिया की समझ आई नहीं क्यूँ अब तक
उसका हर झूठ क्यों सच मैंने बना रक्खा था

कल की शब् मुझ पे सिया कितनी अजब गुज़री थी
दिल पे हैरत ने अजब रंग जमा रक्खा था

maine chahat ka khuda kisko bana rakkha tha
kiske qadmon mein yeh sar apna jhuka rakkha tha

haan waheen khwaab to tute hain meri anakho se
main ne muddat se jinhein dil me bsa rakha tha

jhooti khushiyon ka thikhna hi nahi hai koi
gham ka sarmaya .kahaan dil se juda rakha tha

aaj ik aas ke panchi ka gala ghont diya .
khana e dil me bahot shor macha rakha tha

mujhko duniya kee samajh aayi nahin kyun ab tak
uska har jhooth kyu sach maine bana rakkha tha

kal ki shab mujh pe siya kitni ajab guzri thee .
dil pe hairat ne ajab rang jama rakh thaa

1 comment: