Thursday, 20 March 2014

नज़्म तल्ख़ यादें



मैं अपनी ज़िंदगी की तल्ख़ यादें 
सिरे से भूल जाना चाहती हूँ 
किसी के हिज्र में रोई बहुत थी 
मगर अब मुस्कुराना चाहती हूँ 
मैं सब कुछ भूल जाना चाहती हूँ 

मैं समझी जिसको चाहत ज़िंदगी की 
उसी ने मुझसे ऐसी दिल्लगी की 
मैं उसके, वो मेरे क़ाबिल नहीं था
के इस रिश्ते में कुछ हासिल नहीं था
निजात उस ग़म से पाना चाहती हूँ
मैं सब कुछ भूल जाना चाहती हूँ

ख़बर पहले से ही ये काश होती
के वो लफ्जों से ही बस खेलता है
मेरा दिल भी शिकार उसका नया है
वो शातिर है वो ताजिर है यक़ीनन
वो दिल छलने में माहिर है यक़ीनन
सबक उसको सिखाना चाहती हूँ
मैं सब कुछ भूल जाना चाहती हूँ

न होंगे रायगां अब मेरे जज़बे
न पीछा अब करेंगे ये अँधेरे
नया सूरज निकल कर आएगा फिर
नयी इक सुब्ह लेकर आएगा फिर
उजालों को मैं पाना चाहती हूँ
मैं अपनों से निभाना चाहती हूँ
मैं सब कुछ भूल जाना चाहती हूँ

main apni zindgi ki talkh yaadeN
sire se bhul jana chahti hoo'N
kisi ke hijr mein royi bahut thi
magar ab muskurana chahti hoon
main sab kuch bhul jana chahti hoon

main samjhi jisko chahat zindgi ki
usi ne mujhse kaisi dillagi ki
main uske, wo mere qabil nahin tha
ke is rishte se kuch haasil nahi tha
nijaat us gham se paana chahti hoon
main sab kuch bhul jana chahti hoo

kahbar pahle se hi ye kash hoti
ke wo lafzo'n se hi bus khelta hai
mera dil bhi shikaar uska naya hai
wo shatir hai wo tajir hai yaqeenan
wo dil chalane mein mahir hai yaqeenan
sabak usko sikhana chahati hoon
bahut ab door jana chahti hoon
main sab kuch bhul jana chahti hoon

na honge rayega'n ab mere jazbe'n
na ab kare'nege ye andhre
naya suraj nikal kar aayega phir
nayi ik subh lekar aayega phir
ujalao ko main pana chahti hoon
main apno se nibhana chahti hoon
main sab kuch bhul jana chahti hoon
..

No comments:

Post a Comment