Tuesday, 18 March 2014

जिन्दा हूँ ज़िंदगी की उमंगों के साथ साथ

दुनिया में सारे प्यार के रिश्तों के साथ साथ 
जिन्दा हूँ ज़िंदगी की उमंगों के साथ साथ 

मिलता है मुझसे जो भी वो होता है पाक रूह 
रहती हूँ आज कल मैं फ़रिश्तों के साथ साथ 

बेताबियाँ भी पैंग बढाती हैं दिल की सब 
आँखों में इंतज़ार के लम्हों के साथ साथ 

मैं आ गयी हूँ आज ये कैसे दयार में 
लाशें पड़ी हुई हैं दुपट्टों के साथ साथ

दिल तोड़ने का ख़ब्त नहीं है जहाँ पनाह
मैं खेलती हूँ अब भी खिलौनों के साथ साथ

आँखों से मेरी अश्क़ गिरे हैं तमाम रात
पतझड़ के टूटते हुए पत्तों के साथ साथ

जब भी सिया उठाती है अपने क़दम तो फिर
मंज़िल पुकार लेती है रस्तों के साथ साथ

duniya mein saare pyaar ke rishto'n ke sath sath
jinda hoon zindgi ki umango'n ke sath sath

milta hai mujhse jo bhi wo hota hai paak rooh
rahti hoon aaj kal main farishto'n ke sath sath

betabiya'n bhi peng badhati hai'n dil ki sab
aankho'n mein intzaar ke lamho'n ke sath sath

main aa gayi hoon aaj ye kaise dayaar mein
laashe padi hui hai'n duptto'n ke sath sath

dil todne ka khbat nahi'n hai jahan panah
main khelti hoon ab bhi khilono"N ke saath

aankhon se meri ashq gire hai'n tamam raat
Patjhad Ke Toot'te Huye Pat'to'n Ke Sath Sath

main aa gayi hoon aaj ye kaise dayaar mein
laashe padi hui hai'n duptto'n ke sath sath

dil todne ka khbat nahi'n hai jahan panah
main khelti hoon ab bhi khilone ke saath

jab bhi siya uthati hai apne qadam to phir
manzil pukaar leti hai rasto'N ke sath sath

No comments:

Post a Comment