Tuesday, 4 February 2014

दुनिया के तमाशों में गिरफ्तार नहीं है


वो दिल जो तेरी याद से बेज़ार नहीं है दुनिया के तमाशों में गिरफ्तार नहीं है इस दौर में तो बर्फ की मानिंद हैं रिश्ते
गर्मी भी नहीं दिल में कोई प्यार नहीं है
अल्फाज़ से तुमने मेरे दिल के किये टुकड़े
हाँ हाथ में बेशक कोई  हथियार नहीं है

औरत की तो सब अग्नि परीक्षा के है तालिब
कोई भी मगर राम सा किरदार नहीं है

घर को भी मेरे चाहिए एक धूप का टुकड़ा
भाती मुझे ऊँची  तेरी दीवार नहीं है

जाड़े में ठिठुरते हुए फुटपाथ पे सोयें
कितने है जिनका कोई भी घरबार नहीं है

सस्ती है पसीने से सिया शायरी मेरी
ग़ज़लों का मेरी कोई खरीदार नहीं है ...


wo dil jo teri yaad se bezaar nahin hai 
duniya ke tamashoN  mein girftaar nahi hai

alfaz se tumne  mere dil ke kiye tukde 
haan hath mein beshaq  koi hathiyaar nahiN hai 

aurat ki to sab agni prekcha ke hai talib
koyi bhi magar raam sa qirdaar nahiN hai

ghar ko bhi mere chahiye ek dhoop ka tukda 
bhati mujhe unchi  tiri deewar nahiN hai 

jaade mein thithurteN hue footpath pe soyen
kitne hai jinka koyi gharbaar nahiN hai

sasti hai paseene se siya shayari meri
ghazlon ka meri koi khareedar nahi hai




No comments:

Post a Comment