Monday, 17 February 2014

नज़्म…… हो सके तो मुझे भुला देना




तेरी यादों ने जब भी आ घेरा
दिल पे ग़म ने लगा लिया  डेरा 
अश्क़ आँखों से यूँ बरसते है 
रोज़ हम एक मौत मरते है 

टीस दिल में उतर सी जाती है 
रूह मेरी सिहर सी जाती है 
इस क़दर दम सा घुटने  लगता है 
और दिल में धुवाँ सा उठता है 

तल्ख़ बाते जो दिल जलाती है 
मेरी सांसे उखड सी जाती है 
थरथराने लगे बदन मेरा
 सहमा सहमा रहे ये मन मेरा 


ज़ब्त दिल पे नहीं रहा बाक़ी 
अब क्या सुनना कहा रहा बाकी 
इस क़दर दिल पे चोट खायी है 
अब तो इतनी सी बस दुहाई है 
अब न मुझको कोई सदा देना 
हो सके तो मुझे भुला देना 

teri yadoN ne jab bhi aa ghera dil pe gham ne laga liya dera ashk anakhoN hai yun bikharate roz hum ek maut marte hai

tees dil mein utar si jaati hai 
rooh meri sihar si jaati hai
is qadar dam sa ghutne lagta hai 
aur dil mein dhuan sa uthata hai 

talkh baate jo dil jalaati hai
meri sanse ukhad se jaati hai 
thartharane  lage badan mera
sahma sahma rahe ye  man mera 

zabt  dil pe nahiN raha baki
ab kya sunna kaha raha baki 
is qadar dil pe chhot khayi hai 
ab to itni si bus duhayi hai 
ab na mujhko koyi sada dena 
ho sake to mujhe bhula dena 




No comments:

Post a Comment