Sunday, 16 February 2014

और सपने भी तार तार हुए

तल्ख़ लफ़्ज़ो के ऐसे वार हुए
तीर जैसे जिगर के पार हुए

लम्हा लम्हा बिखर गयी  साँसे 
और  सपने भी तार तार हुए 

दरबदर आज हम भटकते है 
उनकी चाहत में ऐसे ख़वार हुए 

आज दिल को ज़रा सा समझाया 
आज फिर हम न बेक़रार हुए

दिल की  बस्ती उजाड़ ली  हमने 
वो ज़रा भी न शर्मसार हुए 

वो तो बस खेलते रहे दिल से 
आज तक हम न होशियार हुए 

दोष किस पर धरे सिया हम तो 
सिर्फ  हालात के शिकार हुए 

talkh lafzoN se aise waar hue 
teer jaise jigar ke paar hue 

Lamha Lamha bikhar rahi sanse 
aur sapne bhi tar tar hue 

dar badar aaj hum bhatkate hai 
unki chahat mein aise khwaar hue 

aaj dil ko zara sa samjhaya
aaj phir hum na beqarar hue 

dil ki basti ujadane li humne 
wo zara bhi na sharmsaar hue

wo to bus khelte  rahe  dil se
aaj tak hum na  hoshiyaar hue 
  

Dosh kis par dhareiN Siya ham to /
sirf haalat ke  shikaar hue 


No comments:

Post a Comment