Saturday, 7 December 2013

मगर तुमने मुझे परखा नहीं था

मेरे क़िरदार पर धब्बा नहीं था 
मगर तुमने मुझे परखा नहीं था 

मेरी आँखों में भी इक रतजगा था
मगर वोह भी तो कल सोया नहीं था

गवां दी अपनी हस्ती जिसकी ख़ातिर
मेरी दुनिया का वो हिस्सा नहीं था

भटकना ही रहा किस्मत में मेरी
कोई मंज़िल कोई रस्ता नहीं था

खुली आँखों से जो देखा था मैंने
हक़ीक़त थी कोई सपना नहीं था

मेरी मुश्किल में काम आया था जो कल
वो कोई ग़ैर था अपना नहीं था

ये चेहरे कि उदासी कह रही थी
वो टूटा था मगर बिखरा नहीं था

लगी थी चोट उसके दिल पे फिर भी
वो मेरे सामने रोया नहीं था

वो मेरा ग़म समझता भी तो कैसे
सिया मुझसा तो वो तन्हा नहीं था

mere qirdaar par dhabba nahi'N tha
magar tumne mujhe parkha nahi'N tha

meri ankhon mein bhi ik ratjaga tha
magar woh bhi to kal soya nahi'N tha

ganwa di apni hasti jis ki khatir
meri duniya ka woh hissa nahi'N tha

bhatakna hi raha kismat mein meri
koi manzil koi rasta nahi'N tha

khuli ankhon se jo dekha tha maine
haqeeqat thi koi sapna nahiN tha

meri mushkil main kaam aaya tha jo kal
wo koi ghair tha apna nahi'N tha

woh mera gham samajhta bhi to kaise
wo mujhsa to kabhi tanha nahi'N th

ye chehre ki udaasi keh rahi thi
wo toota tha magar bikhra nahi'N tha

lagi thi chot uske dil pe phir bhi
wo mere samne roya nahi.N tha

woh mera gham samajhta bhi to kaise
siya mujhsa to wo tanha nahi,N tha

No comments:

Post a Comment