Tuesday, 10 December 2013

ज़ब्त को अपने आज़माने की

हमको आदत है चोट खाने की 
ज़ब्त को अपने आज़माने की 

तुम कहो तो कहो अदा इसको 
है तो तरकीब दिल जलाने की 

आज के दौर में उम्मीद ए वफ़ा 
बात करते हो किस ज़माने की

मेरी खुशियाँ तुम्हे खटकती हैं
बात करते हो दिल दुखाने की

अब किसी पर यकीं नहीं होता
देख धोखा घडी ज़माने की

सारी दुनिया में तुमने ज़ाहिर की
बात थी वो ज़रा छुपाने की

गर बुरा कुछ नहीं किया तुमने
क्या ज़रूरत हैं मुँह छुपाने की

वो तो मुझ पर ही आज़माएंगे
सूरतें सारी दिल दुखाने की

दो घडी तो सिया कि सुन लेते
इतनी जल्दी भी क्या थी जाने की

humko aadat hai chot khane ki
zabt ko apne aazmane ki

tum kaho to kaho ada isko
hai to tarkeeb dil jalaane ki

aaj ke dau mein umeed e wafa
baat karte ho kis zamane ki

meri khushiyaaN tumheN khatakti hain
baat karte ho dil dukhane ki

ab kisi par yakeen nahiN hota
dekh dhokha ghadi zamane ki

saari duniya mein tumne zahir ki
baat thi wo zara chupaane ki

gar bura kuch nahiN kiya tumne
kya zarurat hai munh chupaane ki

wo to mujh par hi aazmayegeN
surteN sari dil dukhane ki

do ghadi to siya ki sun lete
itni jaldi bhi kya thi jaane ki...

No comments:

Post a Comment