Sunday, 17 November 2013

मिली शोहरत तो क्या बहका हुआ है

तेरा लहजा जो यूँ  बदला हुआ है 
तेरे सर में तक्कबुर आ गया है 

क़दम पड़ते नहीं हैं अब ज़मीं पर
मिली शोहरत तो क्या बहका हुआ है 

रक्खा क्यूँ हाथ दुखती रग पे मेरी 
पुराना ज़ख्म फिर ताज़ा हुआ   है 

मैं अब बुनती नहीं हूँ कोई सपना 
हकीकत से ही मेरा वास्ता है 

ए मेरी कजरवी कुछ तो बता दे। 
मेरी मंज़िल का गर तुझको पता है 

उजालों के परस्तारो  ये सोचो 
अंधेरों का भी लंबा सिलसिला है

हमारे ज़ब्त की मत बात पूछो 
तुम्हारा  हर सितम  हंस कर सहा है 

सभी के धुँधले से लगते है चेहरे 
अंधेरें चारसू फैला हुआ है 

ये दानवता का जो पसरा है साया 
हर इक इंसान क्या सोया हुआ है 

तुम अपनी आँख खोलो तब दिखेगा 
ख़ुदा चारों तरह बिखरा हुआ है 

 न इसकी क्यूँ ख़बर ली बाग़बाँ ने 
खिले बिन फूल ये मुरझा गया है 

नया है  दौर अब  माँ बाप की भी 
कहाँ अब कोई बच्चा मानता है
 
जला दंगो में है घर बार जिसका 
वो सर्दी में ठिठुरता कांपता  है 


tera lahja jo yun badla hua hai 
 ke tujh mein ab takkabbur aa gya hai 

qadam padte nahiN haiN ab  zameen par 
mili shohrat to kya behka hua hai 

rakkha kyun haath dukhti rag pe meri
purana zakhm phir taza  hua hai

main ab bunti nahi hooN koi sapna 
haqeeqat se hi mera wasta hai 

  aye meri kajrawi kuch to bata de 
meri manzil ka gar tujhko pata hai 
 
ujaloN  ke paristaro ye socho 
andheron ka bhi lamba silsila hai 

hamare zabt ki na baat pucho
tumahara har sitam hans kar saha hai 

sabhi ke dhundhleN se lagte hai chehre 
andhera charsu faila hua hai 


ye danvata ka jo pasra hai jo saya 
har ik insan  kya soya hua hai 

Tum apni  aankh  kholo to dikhega
khuda charoN taraf bikhra hua hai 

na iski kyun khabar li baghbaan ne 
 khlie bin phool ye murjha gaya hai


naya hai daur ab ma baap ki bhi 
kahaN koi bhi bachcha manta hai
 
jala dange mein hai ghar baar jiska 
wo sardi mein thithurta kanmpta hai



No comments:

Post a Comment