Tuesday, 24 September 2013

यूं तो जीना मुहाल लगता है

हर तरफ एक जाल लगता है 
यूं तो जीना मुहाल लगता है 

चाँद उदास तनहा सा 
मेरे जैसा निढाल लगता है 

इस बरस सब नजूम उलटे हैं 
साढ़े साती ये साल लगता है

कैसे उसने रिझा लिया सबको 
वो यशोदा का लाल लगता है

तुझसे मिलना है जिंदगी का सबब
तेरा मिलना मुहाल लगता है

बेहिसी का गुबार छँटने लगा
दिल में फ़िर कुछ उबाल लगता है

शौक़ अब बोझ बन गया सर का
ये तो जी का वबाल लगता है

एक एक शेर इस ग़ज़ल का सिया
तेरे दिल का ही हाल लगता है

Har taraf ek jaal lagta hai,
yooN to jeena muhaal lagta hai

chand tu bhi uadaas tanha hai
mere jaisa nidhal lagta hai

Is baras sab nujoom ulte haiN,
Saadhe saati yeh saal lagta hai

Kaise usne rijha liya sabko,
Woh Yashoda ka lal lagta hai.

Tujh se milna, hai Zindagi ka sabab,
Tera milna muhal lagta hai

Behisi ka ghubar chhatne laga,
Dil mein phir kuchh ubaal lagta hai.

Shauq ab bojh ban gaya sar ka
Yeh to ji ka wabaal lagta hai.

ek ek sher is ghazal ka siya
tere dil ka hi haal lagta hai

No comments:

Post a Comment