Tuesday, 24 September 2013

दर्द ने मुझको सँवारा और है

ज़ख्म भी दिल का उभारा और है 
दर्द ने मुझको सँवारा और है 

कल तलक़ थे जिनको हम जां से अज़ीज़ 
आज उनके दिल को प्यारा और है

कितना बतलाओ मैं समझौता करूँ
अब मेरा मुश्किल गुज़ारा और है

सब सियासत में लगे मिलते हैं अब
तेरी महफ़िल का नज़ारा और है

ज़िंदगी तूने तो बस धोके दिए
मौत का लेकिन इशारा और है

इस जहाँ में अब सिया रक्खा है क्या
ये नहीं रास्ता तुम्हारा और है

Zakhm bhi dil ka ubhara aur hai
Dard ne mujhko sanwara aur hai

Kaal talak they jinko ham jaaN se aziz
Aaj unke dil ko pyaara aur hai

kitna batlao main samajhautaa karuN
ab mira mushkil guzara aur hai

sab siyasat mein lage milte haiN, ab,
Teri mehfil ka nazara aur hai

zindagi tune to bus dhoke diye
maut ka lekin ishara aur hai

is jahan mein ab siya rakkha hai kya
ye nahiN rasta tumahara aur hai

siya

No comments:

Post a Comment