Thursday, 11 July 2013

nazm kashmaksh


चंद लफ़्ज़ों में बयाँ दर्द भला कैसे हो 
ऐसी पेचीदा हकीकत का बयाँ कैसे हो 
जिस हक़ीक़त को भी अफसाना बना दे दुनिया 
आग सीने में मेरे और बढ़ा  दे दुनिया 
ऐसा अफसाना सुनाने से मिलेगा भी क्या 
दर्द को अपने बढ़ाने से मिलेगा भी क्या

लफ़्ज़ गूंगे हुए अब, दर्द सुनाएँ किसको 
भूल ही जाये चलो दिल से भुलायें उसको
दिल को सदमों के सिवा और मिला भी क्या है 
साँस चलती है फ़कत और रहा भी क्या है
बात जो दिल में थी वो न किसी से कह पाए 
लज्ज़त-ए-गम का ये अहसास भी न सह पाए ...

chand lafzo'n mein byan dard bhala kaise ho 
aisi pecheeda haqeeqat ka byan kaise ho 
jis haqeeqat ko bhi afsaana bana de duniya 
aag seene mein mere aur badha  de duniya 
aisa afsana sunnane se milega bhi kya 
dard ko apne badhne se milega bhi kya 

lafz gonge hue ab,dard sunaye kisko 
bhul hi jaye chalo dil se bhulaaye usko 
dil ko sadmo'n ke siwa aur mila bhi kya hai
saan's  chalti hai faqat aur raha  bhi kya hai 
baat jo dil mein thi wo na kisi se kah paaye 
lazzat e gham ka ye ehsaas bhi na sah paaye 

siya

No comments:

Post a Comment