Saturday, 6 July 2013

मेरे साथ चलने वाले सभी लोग थक गए हैं

कई छावं ढूढ़ते है तो कई ठिठक गए हैं 
मेरे साथ चलने वाले सभी लोग थक गए हैं 

मुझे दुःख नहीं है इसका मैं तबाह हो गयी हूँ 
मेरा  एक घर जला  तो कई घर चमक गए हैं 

जो  खड़े थे सर उठाये उन्हें आँधियों ने तोडा 
हैं वहीं सही सलामत जो शज़र लचक गए हैं 

मेरी ज़िन्दगी में जबसे तेरा प्यार आ गया है 
मेरी खिल उठी है राते मेरे दिन महक गए हैं 

मिरा  दिल धड़क धड़क के मुझे क्यों सता रहा है
तेरा शोर सुनते सुनते मेरे कान पक गए हैं 

वो जो डर गए थकन से वो खड़े रहे किनारे 
जिन्हें शौक़ था सफ़र का वहीं दूर तक गए हैं 

मैं ये सोचती थी उनसे ये कहूँगी वो कहूँगी 
मेरे सामने वो आये तो अधर चिपक गए हैं 

जिन्हें पी रही थी छिप कर मैं सिया कई बरस से 
मेरे आँसुवों  से दिल के वहीं ग़म छलक गए हैं 


kai chavn dhundhte hain to kai thithak gaye hain
mire sath chalne wale sabhi log thak gaye hain

mujhe dukh nahi hai iska main tabaah ho gayi hoon 
mera ek ghar jala to kai ghar chamak gaye hain 

jo khade the sar uthaye, unhe aandhiyon ne toda 
hain waheen sahi salamat jo shazar lachak gaye hain 

meri zindgi mein jabse tira pyaar aa gaya hai 
miri khil uthi hai raate mere din mahak gaye hain 

mira dil dhadak dhadak ke mujhe kyo sata raha hai
tera shor sunte sunte mere kaan pak gaye hain 

wo jo dar gaye thakan se wo khade rahe kinaare 
jinhe shouq tha safar ka waheen door tak gaye hain 

main ye sochti thi unse ye kahungi wo kahungi 
mere saamne wo aaye to adhar chipak gaye hain

jinhe pee rahi thi chip kar main siya kai baras se 
mere aansuon se dil waheen gham chalak gaye hain



No comments:

Post a Comment