Saturday, 6 July 2013

अपने को इतने गौर से देखा न कीजिये

आईना रख के सामने बैठा न कीजिये 
अपने को इतने गौर से देखा न कीजिये 

यादों की ज़िंदगी का भरोसा न कीजिये 
बिस्तर को आँसुवों से भिगोया न कीजिये 

इस रोग का इलाज़ नहीं है कहीं जनाब 
पहरों किसी की सोच में डूबा न कीजिये 

एहसास यूँ करेंगे तो दिल पे बन आएगी 
ऐसे किसी के वास्ते रोया न कीजिये

कितने नक़ाब ओढ़े है हर आदमी यहाँ
आइना लेके शहर में घूमा न कीजिये

रिश्तों का कुछ तो आप भी रक्खा करें लिहाज़
हर बात को बढ़ा के उछाला न कीजिये

बरसों के बाद खुशियों की दस्तक सुनाई दी
इस घर में ग़म का कोई भी चर्चा न कीजिये

मेयार ए इश्क़ आपने समझा नहीं है क्या ?
दुनिया के सामने हमें रुसवा न कीजिये

तंग आ गए है आपकी इन बंदिशों से हम
ऐसा न कीजिये कभी वैसा न कीजिये

फिरते है लोग मुट्ठे में अपनी नमक लिए
यूं ज़ख्म दूसरों को दिखाया न कीजिये

कुछ तो हमें सकूं से जीने भी दे ज़रा
सांसों पे मेरी आप यूँ क़ब्ज़ा न कीजिये

अपनी ज़बान पे भी कभी कायम रहे ज़रा
झूठा कभी भी आप यूँ दावा न कीजिये

आदाबे दोस्ती का तकाज़ा है ये सिया
गैरों के सामने कोई चर्चा न कीजिये

aina rakh ke saamne baitha na kijiye
apne ko itne gaur se dekha na kijiye

yodon ki zindgi ka bhrosa na kijiye
bistar ko ansuvon se bhigoya na kijiye ..

is rog ka ilaaz nahi hai kaheen janab
pahroN kisi ki soch mein duba na kijiye

ehsaas yun karengeN  to dil pe ban aayegi
aise kisi ke waste roya na kijiye

kitne naqab odhe hain har aadmi yahan
aaina leke shahar mein ghuma na kijiye

rishton ka kuch to aap bhi rakkha kareN lihaz
har baat ko badha ke uchala na kijiye

rishton ka kuch to aap bhi rakkha kare lihaz
har baat ko badha ke uchala na kijiye

me'Yaar e ishq aapne samjha nahi hai kya
duniya ke saamne hame Rusvaa Na Kijiye

tang aa gaye hai aapki in bandishon se hum
aisa na kijiye kabhi vaisa na kijiye

firte hai log mutthi mein apni namak liye
yoon zakhm dusro'n ko dikhaya na kijiye

kuch to hame sukooN se jeene bhi de zara
sason pe miri aap yun qabza na kijiye

apni zabaaN pe bhi kabhi qayaam rahe zara
jhootha kabhi aap yun dawa na kijiye

Aadab e dosti ka taqaza hai aye siya
ghairon kee samne koi charcha na kijiye

No comments:

Post a Comment