Monday, 15 July 2013

तेरे ग़म बेशुमार क्या करती

फिर तेरा ऐतबार क्या करती 
लेके ग़म बेशुमार क्या करती 

चार दीवारी घर की रास आई 
तेरी देहलीज़ पार क्या करती 

छोड़ कर जा रहा था जो मुझको 
रोके उससे गुहार क्या करती 

तुमने जब इस तरह से ठुकराया 
मिन्नते बार बार क्या करती

जिसकी फ़ितरत में बेहयाई हो
उसको मैं शर्मसार क्या करती

मेरे एहसास मर गए जैसे
ज़ख्म अपने शुमार क्या करती

जो खिज़ां की मैं हो गयी आदी
इंतज़ार ए बहार क्या करती

मेरे ग़म से न वास्ता जिनको
ऐसे रिश्तों से प्यार क्या करती

मैं तो सादावरी की क़ायल हूँ
तुम बताओ सिंगार क्या करती

मेरे अल्फ़ाज़ खो गए जैसे
अपने शेरो में धार क्या करती

था अक़ीदत का एक नशा मुझ पर
मैं इलाज ए खुमार क्या करती

fir tera aitbaar kya karti
leke gham beshumaar kya karti

char deewari ghar ki raas aayi
teri dehleez paar kya karti

chhor kar ja raha tha jo mujhko
ro ke usse guhaar kya karti

tumne kuch is tarah se thukraya
minnte bar bar kya karti

jiski fitrat mein behya'ai ho
usko main shamsaar kya karti

mere ehsaas mar gaye jaise
zakhm apne shumaar kya karti

jo khizan ki main ho gayi aadi
intzaar e bahaar kya karti

mere gham se na wasata jinko
aise rishto se pyaar kya karti

main to sadavari ki qayal hoon
tum batao singaar kya karti

mere alfaaz kho gaye jaise
apne shero mein dhaar kya karti

tha aqeedat ka ek nasha mujh par
to ilaaj e khumaar kya karti

siya

No comments:

Post a Comment