Saturday, 20 July 2013

मैं बता दूंगी तुम्हें वो भी कहानी एक दिन

बात जो सबसे पड़ी मुझको छुपानी एक दिन 
मैं बता दूंगी तुम्हें वो भी कहानी एक दिन 

अपने रिश्तों को कभी जिसने तवज्जों ही न दी
घेर लेगी उसको सबकी बदगुमानी एक दिन 

 उम्र भर नाकामियां जिसके मुक़द्दर में रहीं 
हो गई मशहूर उस की हर कहानी एक दिन

जब कभी घबरा उठी तो माँ ने समझाया मुझे 
ग़म न कर संवेरेगी तेरी ज़िंदगानी एक दिन

सच की खातिर जो जिए और ज़ुल्म से लड़ते रहे 
हक़ दिलाएगी उन्हें ये हक़बयानी एक दिन 

जो ज़मीं की इस कशिश में खो गए हैं ऐ सिया !
उनको डस लेगी बलाए आसमानी एक दिन

baat jo sabse padi mujhko chupaani ek din 
main bata dungi tumhe wo bhi kahani ek din 

apne rishto'n ko kabhi jisne tawjjo hi na di 
gher legi usko sabki  badgumani ek din 

umr bhar nakamiya jiske muqddar mein rahi'n 
 ho gayi mashoor uski har  kahani ek din 

jab kabhi ghabra uthi to ma ne samjhya mujhe 
gham na kar sanveri teri zindgani ek din 

sach ki khatir jo jiye aur zulm se ladte rahe 
haq dilaegi unhe ye haq bayani ek din....

jo zamee'n ki is kashish mein kho gaye hain aye siya 
unko das legi balae aasmaani ek din ....

No comments:

Post a Comment