Friday, 26 July 2013

दिल दुखाने वाली बाते भूल जाना चाहिए



अब ख़ुशी का भी कोई हमको बहाना चाहिए
दिल दुखाने वाली बाते भूल जाना चाहिए

रौशनी की इक किरण जीवन में चमके तो ज़रा
कुछ तो जीने का हसीं हमको बहाना चाहिए

तेरे घर डोली पे आई आज अर्थी पे चली
आज दुल्हन सा मुझे फिर से सजाना चाहिए

सारे रिश्तों को निभाया जो विरासत में मिले
हाँ मगर दिल के भी रिश्तों को निभाना चाहिए

चार दिन की मुख़्तसर सी जिंदगी है ये सिया
प्यार से सबसे यहाँ मिलना मिलाना चाहिए

ab khushi ka bhi koi humko bahana chahiye
Dil dukhane wali baate bhool jana chahiye

roshni ki ik kiran jeevan mein chamke to zara
kuch to jeene ka haseen humko bahana chahiye

tere ghar doli pe aai aaj arhti pe chali
aaj dulhan sa mujhe fir se sajana chahiye

saare rishto ko nibhaya jo virasat mein mile
haan magar dil ke bhi rishto'n ko nibhana chahiye

char din ki mukhtsar si zindgi hai ye siya
pyaar se sabse yahan milna milaana chahiye

No comments:

Post a Comment