Tuesday, 23 July 2013

भूल पाई न वो हादसा आज तक

मेरे सर पे है माँ की दुआ आज तक 
हो न पाया तभी कुछ बुरा आज तक 

छोड़ तन्हा मुझे जब गई थी तू माँ 
भूल पाई न वो हादसा आज तक 

छावं की जुस्तजू में रही उम्र भर 
धूप रोके रही रास्ता आज तक 

तेरे बिन जी रही हूँ अकेले मगर 
रास आई न आब ओ हवा आज तक

मुझको कोई शिकायत नहीं आपसे
क्या किया मैंने कोई गिला आज तक

मेरे दिल को दुखाता रहा जो सदा
उसको देती रही मैं दुआ आज तक

कब तलक़ प्यार मुझसे किया आपने
उसने पूछा तो बस कह दिया आज तक

सारी दुनिया में मैंने तलाशा मगर
तेरे जैसा कोई कब मिला आज तक

उसने एहसान मुझ पर किये बारहा
और माँगा नहीं कुछ सिला आज तक

फ़र्ज़ बेटी बहू का ना भूली कभी
सारे रिश्ते रही मैं निभा आज तक

दो परिवार की लाज ओढ़े हुए
मैंने रक्खी हैं उजली रिदा आज तक

मुद्दतों बाद वो आज आये है घर
वक़्त उनको नहीं था मिला आज तक

इक कमी रह गयी तो गिनाया गया
नेकियों का मिला कब सिला आज तक

mere sar pe hai ma ki dua aaj tak
ho na paya tabhi kuch bura aaj tak

chhod tanha mujhe tu gai thi jo ma
bhul pai na wo haadsaa aaj tak

chavn ki justju mein rahi umr bhar
dhoop roke rahi rasta aaj tak

tere bin ji rahi hun akele magar.
ras aai na aab-o-hawa aaj tak.

mujh ko koi shikayat nahin aapse
kya kiya maine koyi gila aaj tak

mere dil ko dukhata raha jo sada
usko deti rahi main dua aaj tak

kab talak pyar mujhse kiya aapne
. usne poocha to bas kah diya aaj tak.

sari duniya mein maine talasha magar
tere jesa koi na mila aaj tak

usne ehsan mujhpar kiye ba-raha
aur manga nahi,n kuch bhi sila aajtak

sari duniya mein maine talasha magar
tere jesa koi kab mila aaj tak

farz beti bahu ka n bhuli kabhi
sare rishte rahi main nibha aaj tak

do parivaar ki laaj odhe hue
maine rakhi hai ujli rida aaj tak

Muddaton baad wo aaj aaye hain ghar
waqt unko nahi tha Mila aaj tak

ik kami rah gai to ginaya gaya
nekiyo'n ka mila kab sila aaj tak

No comments:

Post a Comment