Friday, 28 June 2013

ताल्लुक तोड़ कर इतरा रहे हैं

भरी महफ़िल से उठ कर जा रहे हैं 
ताल्लुक तोड़ कर इतरा रहे हैं 

तबाही के जो मंज़र आ रहे हैं 
हमारे दिल को वो दहला रहे हैं .

कहाँ होता है उनपे कुछ असर भी 
मगर पत्थर से सर टकरा रहे हैं 

सलीक़ा बात करने का न जिनको 
हमें वो लोग अब समझा रहे हैं

अजब किरदार के मालिक है वो भी
बुला कर अपने घर खुद जा रहे हैं

उलझती ही गयी रिश्तों की डोरी
उसे इक उम्र से सुलझा रहे हैं

जहाँ पर लोग मर जाते हैं अक्सर
वहां भी जाके हम जिंदा रहे हैं

यहाँ बुझते दीयों की हैं कतारे
उजालो को उजाले खा रहे हैं अपने

शज़र कटते है छायादार लेकिन
नए पौधे उगाते जा रहे हैं

अली का नाम फिर आया ज़बा पर
गुनाहों को पसीने आ रहे हैं ..

bhari mehfil se uth kar ja rahe hai'n
taaluk tod ke itra rahe hai'n

tabaahi ke jo manzar aa rahe hai'n
hamaare dil ko wo dahla rahe hain

kahan hota hai unpe kuch asar bhi
magar patthar se sar takra rahe hai'n

saleeqa baat karne ka na jinko
hame wo log ab samjha rahe hai'n

ajab qirdaar ke maalik hai wo bhi
bula kar apne ghar khud ja rahe hai'n

uljhti hi gayi rishto'n ki dori
use ik umr se sujha rahe hai'n

jahan par log mar jaate hai aksar
wahan bhi jaake hum zinda rahe hai'n

yahan bhujte diyo ki hai qataare
ujaalo ko ujaale kha rahe hai'n

shazar kat'te hain chhayadaar lekin
naye paudhe ugatae ja rahe hai'n

ali ka naam fir aaya zabaan par
gunaaho'n ko paseene aa rahe hai'n

siya

No comments:

Post a Comment