Monday, 3 June 2013

तेरा नाम रटे धड़कन

जाने कब बरसे सावन 
नेह सुधा रस से पावन 

तुझसे है मेरा जीवन 
तेरा नाम रटे धड़कन 

जब तेरे परिचय पाया 
टूट गया भ्रम का दर्पन 

खोयी हूँ तुझमें ऐसे 
तेरा मन है मेरा मन

साज सिंगार तुझी से है
अब मैं क्या देखू दर्पण

मंद पवन के झोंको से
अकुलाता है मेरा मन

व्याकुल्ताये राख हुई
निर्मल है अब अंतर्मन

तुमने पूर्ण किया इसको
खाली था दिल का दर्पन

jane kab barse sawan
neha sudha ras se paawan

tujhse hai mera jeevan
tera naam rate dhadkan

jab tera parichay paya
tut gaya bhrm ka darpan

khoyi hoon tujh mein aise
tera man hai mera man

saaj singaar tujhi se hai
ab main kya dekhu darpan

mand pavan ke jhonko se
akulata hai mera man

vyakultaaye'n raakh hui
nirmal hai ab antarman

tumne purn kiya isko
khali tha man ka darpan

siya

No comments:

Post a Comment