Monday, 3 June 2013

अब तो सूरज को निकलना चाहिए

ख्व़ाब आँखों में वो पलना चाहिए 
जो हक़ीक़त में बदलना चाहिए 

धर्म के जो नाम पर भड़का रहे 
ऐसे लोगो को कुचलना चाहिए 

ऊँचे नीचे का जो जग में फर्क है 
उन रिवाजों को बदलना चाहिए 

भूल करना फ़ितरत ए इंसान है 
मान कर गलती संभलना चाहिए

औरों को उपदेश देने के बजाय
खुद को भी थोड़ा बदलना चाहिए

मोह तृष्णा और हवस के जाल से
हमको तो बच कर निकलना चाहिए

क्रोध से हासिल नहीं होता है कुछ
शांत रख मन यूँ न जलना चाहिए

बात में नरमी रक्खो धीरज रक्खो
विष न जिह्वा से उगलना चाहिए

रात काली जाग कर काटी सिया
अब तो सूरज को निकलना चाहिए

khwaab aankho mein wo palna chahiye
wo haqeeqat mei badalana chahiye

Dharam k jo naam pe bhadka rahe
aise logo ko kuchlana chahiye

oonche neeche ka jo jag mein farq hain
un riwajo'n ko badalna chahiye

bhool karna fitrat e insaan hai
man kar galti samblana chahiye

Auron ko updesh dene ke bajae,
khud ko bhi thodha badalana chahiye

Moh tirshna aur hawas ke jaal se
humko to bachkar nikalana chahiye

krodh se hasail nahi hota hai kuch
shant rakh man yun na jalna chahiye

baat mein narmi rakho dheeraj rakho
vish na Jihva se ugalana chaiye

raat kali jaag kar kaati siya
ab to suraj ko nikalana chahiye

siya

No comments:

Post a Comment