Saturday, 30 March 2013

ज़र्रे ज़र्रे में तेरी ख़ुशबू नज़र आने लगे




बर्ग में गुल में शज़र में तू नज़र आने लगे 
ज़र्रे ज़र्रे में तेरी ख़ुशबू नज़र आने लगे 

वो जो करता था कभी इमदाद सारे शहर की 
उसके शानों पर तिरे बाज़ू नज़र आने लगे 

आपकी खामोशियों में आपके इनकार में 
अब मुझे इक़रार के पहलू नज़र आने लगे 

मैंने जब भी आईना देखा तो मुझको यूं लगा 
मेरी सूरत में ही जैसे तू नज़र आने लगे 

इससे बढ़ कर और क्या होगी मोहब्बत की दलील 
तेरी आँखों में मेरे आँसू नज़र आने लगे 

आज तक तो बात बन जाने की कुछ उम्मीद थी 
अब मगर हालात बेक़ाबू नज़र आने लगे 

ये निगाह ए शौक़ इतनी मोतबर तो हो"सिया" 
तेरा ही चेहरा मुझे हरसूं नज़र आने लगे 

barg mein gul mein shazar mein tu nazar aane lage 
zarre zarre mein teri khushboo'n nazar aane lage 

wo jo karta tha kabhi imdaad sare shahar ko 
uske shano par tire bazu nazar aane lage 

aapki khamoshiyon mein aapke inqaar mein 
ab mujhe iqraar ke pahlu nazar aane lage ..

maine jab bhi aaina dekha to mujhko yuun laga 
meri surat mein hi jaise tu nazar aane lage ..

isse badh kar aur kya hogi mohbbat ki daleel 
teri anakho mein mere aansu nazar aane lage ...

ajj tak to baat ban jaane kuch ummed thi 
ab magar haalat beqabu nazar aane lage

ye nigah e shauq itni motbar to ho siya 
tera hi chehra mujhe harsoo'n nazar aane lage...

siya

No comments:

Post a Comment