Sunday, 31 March 2013

दर्द दिल में रहा है निहाँ देर तक

वो सुनाते रहे दास्ताँ देर तक 
दर्द  दिल में रहा है निहाँ देर तक 

जब गले मिल न पाया ज़मीं से कभी
खूब रोया हैं फिर आसमां देर तक

याद रखने की सच को ज़रूरत नहीं
झूठ को मिल न पायी अमाँ देर तक

घर से निकले है हम आंसुवों की तरह
मुड़ के देखा नही आशियाँ देर तक

गर्दिश ए वक़्त छू भी न पाया मुझे
रोज़ करती हूँ तैयारियाँ देर तक

छावं दिल को सकूं दे न पाई सिया
धूप रहने लगी है यहाँ देर तक

wo sunate rahe daasta.n der tak
dard dil mein raha hai niha'n der tak

jab gale mil na paaya zameen se kabhi
khoob roya hain fir aasmaa'n der tak

yaad rakhne ki sach ko zarurat nahi
jhooth ko mil na payi amaa'n der tak

ghar se nikle hai hum aansuvon ki tarah
mud ke dekha nahi aashiyaa'n der tak

gardishen waqt chhu bhi na paye mujhe
roz karti hoon taiyariya'n der tak

chavn dil ko sakoon de na paai siya
dhoop rahne lagi hai yahan der tak

No comments:

Post a Comment