Saturday, 26 January 2013

सो रही हूँ मुझे मत जगाया करो ...


सब्र को अपने यूं आज़माया करो 
शिद्दत ए ग़म में भी मुस्कुराया करो 

अपनी पलकों पे ख्वाबों की चादर किये
सो रही हूँ मुझे मत जगाया करो ...

फर्क पड़ता नहीं है किसी को यहाँ
ज़ख्म ए दिल मत किसी को दिखाया करो

ऐब जोई तुम्हे ज़ेब देगी मगर
आइना बनके भी तो दिखाई करो

धूप शोहरत की दो दिन में ढल जायेगी
तुम मोहब्बत भी थोड़ी कमाया करो

सर की टोपी ज़मीं पर गिरे एकदम
इतना ऊँचा ना सर को उठाया करो

तुम किसी के हुए ही नहीं जब कभी
फिर किसी को न अपना बनाया करो

रोशनी जिनसे सबको मिले है सिया
दीप ऐसे जहां में जलाया करो...

sabr ko apne yoon aazmaya karo
shiddat e gham mein bhi muskuraya karo

apni palko'n pe khwabo'n ki chadar liye
so rahi hoon mujhe mat jagaya karo

farq padta nahi hai kisi ko yahan
zakhm e dil mat kisi ko dikhaya karo

aib zoyi tumhe zeb degi magar
aaina banke bhi to dikhaya karo

dhoop shohrat ki do din mein dhal jaayegi
tum mohbbat bhi thodhi kamaya karo

sar ki topi zameen par gire ek dam
itna uncha na sar ko uthaya karo

tum kisi ke hue hi nahi jab kabhi
fir kisi ko na apna banaya karo

roshni jinse sabko mile hai siya
deep aise jahan mein jalaya karo ..

No comments:

Post a Comment