Saturday, 26 January 2013

मेरी इक पंजाबी ग़ज़ल ....

मेरी इक पंजाबी ग़ज़ल ....

आंख तो हंजू बै जांदे ने 
हाल दिला दा कह जांदे ने 

जो दुनिया नू राह विखान्दे 
ओही कल्या रह जांदे ने 

इश्क़ कीता सी लोगो जिंना 
ज़ुल्म यार दे सह जांदे ने 

रात हनेरी दा ए आलम
ख्वाब वी डर के रह जांदे ने

पानगे ओह की खाक़ किनारे
जो पानी विच बह जांदे ने

मोती ओनु ही लभदे ने
जो सागर दी तह जांदे ने

दिल विच अपने बैर न रक्खी
लोग सयाने कह जांदे ने ..

No comments:

Post a Comment