Sunday, 2 December 2012

मैं जलाती हूँ आस्था के चराग़

घर से मंदिर में रोज़ ला के चराग़
मैं जलाती हूँ आस्था के चराग़

आईने में नज़र नहीं आते
आपकी दिलनशीं अदा के चराग़

हर वबा को शिकस्त दी मैंने
घर की देहलीज़ पर जला के चराग़

आंच आये न मेरे बच्चों पर
मैं जलाती रही चराग़ दुआ के चराग़

दिल तो उसको ही दे रहा है सदा
जो बुझा कर गया वफ़ा के चराग़

खौफ़ इतना बढा अंधेरों का
लोग सोते रहे जला के चराग़

मेरी आँखों को बख्श कर आंसू
कैसे वो सब गया बुझा के चराग़

शाम होते ही जलने लगते हैं
आसमानों पे मुस्कुरा के चराग़ ....
ghar se mandir mein roz lake charagh
main jalati hoon astha ke charagh

aaine mein nazar nahi aate
aapki dilnasheen ada ke charagh

har waba ko shikast de maine
ghar ki dehleez par jala ke charagh

aanch aaye na mere bachcho par
main jalati rahi dua ke charagh

dil to usko hi de raha hai sada
jo bujha kar gaya wafa ke charagh

khauf itna badha andheron ka
log sote rahe jala ke charagh

meri ankho ko bakhsh kar aansu
kaise wo sab gaya bhujha ke charagh

sham hote hi jalne lagte hain
aasmano pe muskura ke charagh.

siya sachdev

2 comments:

  1. शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन,पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब.
    Please Remove Word Verification.

    ReplyDelete
  2. बहुत प्रभावशाली अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete